Lens Eye - News Portal - झारखंड के विकास में जनता अपनी सहभागिता निभायें : गीताश्री उरांव [ मानव संसाधन मंत्री, झारखंड ]
Latest News Top News

झारखंड के विकास में जनता अपनी सहभागिता निभायें : गीताश्री उरांव [ मानव संसाधन मंत्री, झारखंड ]

Lens Eye - News Portal - झारखंड के विकास में जनता अपनी सहभागिता निभायें : गीताश्री उरांव [ मानव संसाधन मंत्री, झारखंड ]रांची, 18 फरवरी 2014 :: जनता अपनी शक्ति को पहचाने, जनता अपनी भूमिका में आये और स्वच्छ और सुंदर झारखंड बनाने में अपनी बेहतर भूमिका निभाये. यह बातें झारखंड के मानव संसाधन मंत्री गीताश्री उरांव ने कही. श्रीमती उरांव आज पैक्स द्वारा खेलगांव में आयोजित सीबीओ जन उत्सव कार्यक्रम में आये लगभग पांच हजार लोगों को संबोधित कर रहीं थीं.

उन्होंने कहा कि जनता और सरकार की साझा जिम्मेदारी है. जनता के विकास के लिए सरकार कृतसंकल्प है. सरकार द्वारा चलाये जा रहे सरकारी योजना तब ही सफल हो सकती है, जब उसमें आम जनता का सहयोग हो. जनता अपनी बातों को ग्राम सभा में रखें. सरकार ने अंतिम व्यक्ति के विकास के लिए पंचायतों का भी गठन किया है. पैक्स द्वारा कई योजनाएं चलायी जा रही है. पैक्स सरकार का सहयोग कर रही है.

उन्होंने कहा कि खेलकूद के माध्यम से बच्चे आगे बढ़े. गांवों में महिलाएं स्वयं सहायता समूह का गठन करें, महिलाएं ही नेतृत्व प्रदान कर सकती है. महिलाओं को आगे बढ़ाया जा सकता है. उन्होंने नेतृत्व क्षमता पर कहा कि सभी के पास नेतृत्व करने की क्षमता है. लोग उसे पहचाने. लोग डरे नहीं, बल्कि अपनी बातों को रखें. उन्होंने कहा कि झारखंड की अपनी संस्कृति है. लोगांे को संस्कृति व सभ्यता के प्रचार प्रसार के लिए भी आगे आना चाहिए. झारखंड के लोग अपनी सभ्यता और हक की लड़ाई के लिए आगे आये.

इस मौके पर कृषि मंत्री योगेंद्र साहू ने कहा कि झारखंड से पलायन रूके, इसके लिए जरूरी है पलायन को रोकना. किसान जुट रहे हैं. लोगों को काम होने चाहिए. श्री साहू ने कि पैक्स अंतिम व्यक्ति के विकास में कई काम कर रहा है. पैक्स द्वारा कई काम सीधे तौर पर जनता से जुड़े हैं. पैक्स झारखंड में मनरेगा, वनाधिकार, न्यूट्रिशन में कई लोगों को जागरूक कर रहे हैं. उन्होंने कृषि के संबंध में कहा कि राज्य में कृषि के क्षेत्र में कई काम हो रहें हैं. जिससे किसान आगे बढ़े. राज्य में लोगों तक आसानी से भोजन पहुंचे, इसके लिए फूट सिक्योरिटी बिल को लाना होगा.

जनउत्सव में भाग लेने लगभग हजारों लोग पहुंचे है. अलग-अलग स्टाॅलों में क्षेत्र व योजनाओं के बारे में बताया गया है. राज्य में मनरेगा जैसे योजनाओं की क्या स्थिति है, इस बारे में बताया जा रहा है. राज्य के विकास के सामुदायिक पहल का यह अनोखा उदाहरण है. इतनी संख्या में लोगों को एकसाथ पहुंचना लोगों को जागरूकता पैदा करती है.

Leave a Reply