तर्क-विर्तक से ज्ञान बढ़ता है परंतु झगड़े-झमेलों से बदनामी होती है : रघुवर दास [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]
Latest News Top News

तर्क-विर्तक से ज्ञान बढ़ता है परंतु झगड़े-झमेलों से बदनामी होती है : रघुवर दास [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]

तर्क-विर्तक से ज्ञान बढ़ता है परंतु झगड़े-झमेलों से बदनामी होती है : रघुवर दास [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ] राँची, झारखण्ड 02 मार्च 2015 :: झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रिम्स के छात्रों से कहा कि तर्क-विर्तक से ज्ञान बढ़ता है परंतु झगड़े-झमेलों से बदनामी होती है। मेडिकल के छात्रों से अपेक्षा है कि वे राज्य का मान बढ़ाएं। मां-पिता के आशीर्वाद से ही वे मेडिकल की पढ़ाई के लिए चयनित हुए हैं अतएव उनके अरमानों को चकनाचूर न करें। अच्छे इंसान बन कर गरीब-दुखियों की सेवा करें। डॉक्टर बन कर दूर-देहात तक लोगों के काम आएं तथा रिम्स में पठन पाठन का बेहतर माहौल बनाएं। परसों वे पुनः रिम्स की समस्याओं के समाधान हेतु उच्चस्तरीय बैठक करेंगे। मुख्यमंत्री आज अपने आवासीय कार्यालय में रिम्स के मिलने आए छात्रों से वार्ता कर रहे थे।

            उन्हांेने कहा कि रांची मेडिकल हब बनेगा एवं राज्य में मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा दिया जाएगा। सरकार राज्य में एम्स की स्थापना सहित नए मेडिकल कॉलेज खोले जाने हेतु प्रयासरत है। प्रकृति की अकूत संपदा से परिपूर्ण होने के बावजूद यह सभी मेडिकल काॅलेजों के लिए छात्रों के लिए चिंता का विषय है कि राज्य में हर साल कुपोषण से 30,000 हजार बच्चों की मृत्यु होती है। राज्य में चिकित्सकों की कमी है। रिम्स के छात्रांे यह दर्द सीने में छिपाए राज्य में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के बाबत प्रयत्नषील होना चाहिए। भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृति न होने की नसीहत छात्रों को देते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें कोई दिक्कत परेशानी हो तो सीधे मुझ से मिले। वे स्वंय रिम्स खुलने के बाद वहां जायेंगे। रिम्स के छात्र पठन पाठन के प्रति सकारात्मक रवैया रखें एवं कानून से बंधे जिम्मेवार राज्य के नागरिक के तौर पर राज्य के विकास में सहभागी बने।

            इस दौरान समाज कल्याण मंत्री डाॅ लुईस मरांडी,विधायक श्रीमती गंगोत्री कूजूर एवं विधायक लक्ष्मण टूडू भी उपस्थित थे।

Share

Leave a Reply