नव वर्ष का “2070” का सामान्य फल

Lens Eye - News Portal - नव वर्ष का "2070" का सामान्य फलरांची, 11  अप्रैल 2013 :: रांची के जाने माने  ज्योतिष  डॉ सुनील बर्मन [ स्वामी दिव्यानंद ] के अनुसार इस वर्ष का नाम ‘’ पराभव ‘‘ सत्संवर से जाना जायेगा , वर्ष का राजा देवगुरु बृहस्पति तथा मंत्री शनिदेव होंगे। देश एवं राज्य में राजनैतिक दृष्टिकोण से देखा जाए, तो नेतागण आपस में खिंचतान, मतान्तर, सामंजस्य में कमी बरकरार रखेंगे। देश सुरक्षात्मक दृष्टि से सुदृढ रहेगा।

वर्षा की कमी रहेगी, परिणाम स्वरुप कहीं कहीं सूखा भी पडेगा। प्राकृतिक आपदा, जैसे भूकम्प, समुद्री तूफान आदि का भी प्रकोप रहेगा। साथ ही आंधी तूफान एवं आगजनी, विस्फोटादी की घटनायें भी दृष्टिगोचर होते हैं। कृषि के उत्पादन में भी कमी रहेगी। जीवनचर्या के वस्तुओं के मुल्य में बृद्धि के कारण जनता को मंहगाई का दंश भी झेलना पडेगा। सरकार हो, या जनता, ऋण भार से त्रस्त रहेंगे। इन सबों के बावजूद भी, औद्योगिक विकास के अवसर हैं।

—————————————
 वर्ष का प्रथम सूर्योदय कालीन लग्न कुंडली ( विक्रम संवत 2070)

2070सूर्योदय कालिन कुंडली के अनुसार अश्विनी नक्षत्र, मीन लग्न, मेष राशि के साथ केतु की महादशा और चन्द्रमा की अन्तर्दशा का योग निर्माण हो रहा है।जिससे चन्द्र ग्रहण योग भी बनता है।
डा. सुनिल बर्मन (स्वामी दिव्यानन्द)