Lens Eyes - नाटक "अब तो घबरा कर कहते है की मर जायेगे" को द्वितीय पुरस्कर
Latest News Top News

नाटक “अब तो घबरा कर कहते है की मर जायेगे” को द्वितीय पुरस्कर

Lens Eyes - नाटक "अब तो घबरा कर कहते है की मर जायेगे" को द्वितीय पुरस्कर Lens Eyes - नाटक "अब तो घबरा कर कहते है की मर जायेगे" को द्वितीय पुरस्कर रांची, झारखण्ड 22 अक्टूबर 2014 :: आगरा में आयोजित अखिल भारतीय नाटक एवं लोकनृत्य प्रतियोगिता में रांची की युवा नाट्य संगीत अकादमी को नाटक “अब तो घबरा कर कहते है की मर जायेगे” के मंचन के लिए द्वितीय पुरस्कर प्रदान किया गया है. निर्देशन एवं रूपसज्जा के लिए ऋषिकेश लाल को द्वितीय पुरस्कर प्रदान किया गया

Share

Leave a Reply