Lens Eye - News Portal - पहाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यक्रम का शिलान्यास
Latest News Top News

पहाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यक्रम का शिलान्यास

Lens Eye - News Portal - पहाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यक्रम का शिलान्यासराँची, दिनांक- 17 फरवरी 2014 :: मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने स्थानीय पहाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यक्रम का शिलान्यास करते हुए कहा कि राँची पहाड़ी का धार्मिक महत्व के साथ ही साथ ऐतिहासिक एवं पर्यटन के दृष्टिकोण से महत्व है। उन्होंने कहा कि हमारा यह प्रयास होगा कि श्रद्धालुओं को अधिक से अधिक सुविधा दी जा सके। सावन के महीने में स्वर्ण रेखा नदी से जल भर कर बाबा भोले नाथ का अभिषेक करने की परम्परा सदियों से चली आ रही है। यहाँ परम्परागत तरीके से बाबा भोले नाथ की पूजा की जाती है। उन्होंने कहा कि शिलान्यास के पूर्व मैने पहाड़ी बाबा से प्रार्थना किया है  कि यह जीर्णोद्धार कार्यक्रम बिना किसी व्यवधान के शीघ्र पूरा हो एवं इस आयोजन में सभी का सहयोग मिले।

राँची पहाड़ी झारखण्ड राज्य की राजधानी राँची शहर के बीचोबीच एक ऐतिहासिक सर्वोच्च शिखर पर अवस्थित है। इस शिखर से राँची शहर के विहंगम दृश्य अवलोकनीय है। पहाड़ी मंदिर एक अनोखा मंदिर है, जहां धार्मिक ध्वज के साथ-साथ राष्ट्रीय ध्वज पूरे सम्मान के साथ फहराया जाता है।  ळमवसवहपबंस त्मचवतज के अनुसार राँची पहाड़ी की आयु करोड़ों वर्ष पुरानी है एवं शायद यह विश्व के प्राचीनतम पहाडियों में से एक है। करोड़ों वर्ष पुराना यह पहाड़ अब अपनी वृद्धावस्था से गुजर रहा है जिसका जीर्णोद्धार अतिआवश्यक है। इस हेतु बी0आई0टी0 मेसरा द्वारा तैयार डी0पी0आर0 के प्रावधानों को कार्य स्थल की प्रकृति एवं निधि की उपलब्धता के अनुसार निर्माण कार्य किये जायेंगें।

Share

Leave a Reply