Lens Eye - News Portal - पुलिस संस्मरण दिवस में शहीदों को श्रद्वांजलि
Latest News Top News

पुलिस संस्मरण दिवस में शहीदों को श्रद्वांजलि

Lens Eye - News Portal - पुलिस संस्मरण दिवस में शहीदों को श्रद्वांजलि रांची, झारखण्ड 21 अक्टूबर 2014 :: को पुलिस संस्मरण दिवस के अवसर पर झारखण्ड राज्य पुलिस के शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्वांजलि दी गयी। सर्वप्रथम सभी पुलिस पदाधिकारियों एवं कर्मियों द्वारा जैप-1, डोरण्डा, रांची के अमर जवान शहीद स्मारक में पुष्पगुच्छ चढाया गया। तत्पश्चात् मंच में अपर पुलिस महानिदेशक श्री कमल नयन चैबे द्वारा वर्ष भर में शहीद हुए पुलिसकर्मियों का नाम लिया गया। तत्पश्चात जैप-1 बैण्ड एवं दो प्लाटुन जवानों द्वारा अपने शस्त्रों को उल्टाकर शोक सलामी दी गयी। फिर बिगुलवादन के साथ दो मिनट का मौन रखा गया और पुनः शहीदों को सलामी दी गयी। सलामी का संचालन प्लाटुन प्रभारी निरीक्षक श्री प्रभास क्षेत्री द्वारा किया गया। देशभर में पिछले एक वर्ष (दिनांक 01.09.2014 से दिनांक 31.08.2014) तक कर्तव्य के दौरान कुल 662 पुलिस पदाधिकारी एवं जवान शहीद हुए हैं तथा झारखण्ड राज्य में इस दौरान कुल 18 पदा0 एवं जवान शहीद हुए हैं।
Lens Eye - News Portal - पुलिस संस्मरण दिवस में शहीदों को श्रद्वांजलि इस अवसर पर डी.जी.पी.  राजीव कुमार, ए.डी.जी. अशोक कुमार सिन्हा,  कमल नयन चैबे,  के.एल. मीणा,  बिभूति भुषण प्रधान, आई.जी.  एस.एन.प्रधान, अनुराग गुप्ता,  आर.एन. मल्लिक, श्रीमति तदाशा मिश्र, श्रीमति सम्पत मीणा, प्रशांत सिंह, डी.आई.जी. श्रीमति सुमन गुप्ता, समादेष्टा  कुलद्वीप द्विवेदी, एस.एस.पी.  प्रभात कुमार इत्यादि काफी संख्या में पुलिस पदाधिकारी, जवान एवं अन्य लोग उपस्थित थे।
पिछले एक वर्ष (दिनांक 01.09.2013 से दिनांक 31.08.2014) तक कर्तव्य के दौरान शहीद हुए झारखण्ड राज्य के पुलिस पदाधिकारी एवं कर्मियों की सूचीः-
1.इंस्पेक्टर आनन्द तिर्की, 2. सब-इंस्पेक्टर सुनील सोरेन, 3. ए.एस.आई. रतन कुमार सोरेन, 4. ए.एस.आई. राम नरेश सिंह, 5. ए.एस.आई. हरिश्वर सिंह, 6. हवलदार मो0 शमीम, 7. हवलदार शंभु कुमार, 8. हवलदार सुरेन्द्र सिंह, 9. आरक्षी चंदन कुमार, 10. आरक्षी प्रसन्न राई 11. आरक्षी माईकल मुर्मू 12. आरक्षी रघुनन्दन झा, 13. आरक्षी जय विजय शर्मा, 14. आरक्षी अखिलेश राम, 15. आरक्षी चंदन कुमार दुबे 16. आरक्षी मुकेश उरांव, 17. आरक्षी मिखाईल मुर्मू, 18. आरक्षी रविन्द्र कंजूर।

Leave a Reply