बंगाल के झारखण्डी लोगों को अपनी लडाई खुद लडनी होगी : सुदेश कुमार महतो [अध्यक्ष, आजसू ]
Latest News Politics Top News

बंगाल के झारखण्डी लोगों को अपनी लडाई खुद लडनी होगी : सुदेश कुमार महतो [अध्यक्ष, आजसू ]

बंगाल के झारखण्डी लोगों को अपनी लडाई खुद लडनी होगी : सुदेश कुमार महतो [अध्यक्ष, आजसू ]पूरूलिया, मार्च 31, 2015 :: बंगाल के झारखण्डी लोगों को राजनीतिक नेतृत्व अपने हाथों में लेनी होगी और अपनी लडाई खुद लडनी होगी। जिस लडाई को 35 वर्ष पहले शुरू किया गया था उस संघर्ष को लक्ष्य तक पहुचाने का संकल्प लेना होगा। ये बातें आज पूरूलिया में आयोजित झारखण्ड आंदोलन के 36 स्थापना दिवस पर आजसू पार्टी के अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने कही।

राज किशोर महतो ने कहा कि झारखण्डी धर्म और झारखण्डी जन की सोच ने 35 साल पहले एक विचारधारा और विकास की कल्पना का मसाल जलाया था। आज भी वो मसाल की तपिश स्पष्ट दिखाई पड़ रही है। आजाद भारत के पहले का बंगाल सबसे विकसीत राज्य आज ऋणी राज्य है। 34 साल के वाम दल के शासन में बंगाल का विकास नहीं हुआ। तीन जिलों के लोग झारखण्डी विचारधारा रखते हैं। यहां सिद्धू-कान्हू, बिरसा युनिवर्सिटी है। इनकी विचारधारा यहां स्थापित है।

विधायक रामचंद्र सहीस ने कहा कि आज 36वां झारखण्ड दिवस है और वृहत झारखण्ड के लड़ाई का संकल्प आजसू पार्टी लेती है। झारखण्ड की कल्पना 26 जिले की थी जो अब पूरी होनी चाहिए।

तमाड विधायक विकास कुमार मुण्डा ने कहा कि हमको अपना आवाज तैयार करना होगा। सबकी आवाज  कोलकात्ता के राईट्स बिल्डिंग में गुंजनी चाहिए। तभी तीन जिलों को झारखण्ड में शामिल करने की मांग पूरी होगी। वृहत झारखण्ड की मांग की आवाज  कोलकात्ता तक पहुंचाना होगा।

अजीत महतो ने कहा कि पुरूलिया कोर्ट कम्पाउंड से ही अलग झारखण्ड राज्य का आंदोलन शुरू हुआ था। ये लड़ाई भाषा और संस्कृति की रक्षा की लडाई है। झारखण्ड अलग राज्य के लिए भी लड़े अब वृहद झारखण्ड यानि पुरूलिया, बाकुडा एवं मिदनापूर को झारखण्ड में शामिल करने की लड़ाई लड़ेंगे।

इस अवसर पर झामुमों नेता अजीत महतो के साथ हजारो लोगों ने आजसू पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस अवसर पर विधायक रामचंद्र सहीस, कमल किशोर भगत, विकास कुमार मुण्डा, उमाकांत रजक, प्रभाकर तिर्की, सूनिल सिंह, हरिपद महतो, शंकर किशोर महतो इत्यादि प्रमुख रूप से शामिल हुए।

   डाॅ० देवशरण भगत

Share

Leave a Reply