बजट पर प्रतिक्रिया :: Make in India कार्यक्रम के तहत छोटे एवं मध्यम उद्योगो के लिए विशेष प्रावधान किये जाने चाहिए थे : शरद पोद्दार [ अध्यक्ष, JSIA ]
Business Latest News Top News

बजट पर प्रतिक्रिया :: Make in India कार्यक्रम के तहत छोटे एवं मध्यम उद्योगो के लिए विशेष प्रावधान किये जाने चाहिए थे : शरद पोद्दार [ अध्यक्ष, JSIA ]

बजट पर प्रतिक्रिया :: Make in India कार्यक्रम के तहत छोटे एवं मध्यम उद्योगो के लिए विशेष प्रावधान किये जाने चाहिए थे : शरद पोद्दार [ अध्यक्ष, JSIA ]रांची, झारखण्ड 28 फरवरी 2015 :: आज के आम बजट में वित्त मंत्री द्वारा किये गये घोषनाओं में उद्योगो के लिए मिले जूले प्रावधान किये गये है। कुछ प्रावधान जो अतिआवश्यक थे उन्हें बजट में जगह नही दी गई है, जैसे Excise duty की छुट सीमा 1.5 करोड़ से बढ़ाकर 5.00 करोड़ की जानी चाहिए थी, Service Tax में छुट सीमा बढ़ाई जानी चाहिए थी, Make in India कार्यक्रम के तहत छोटे एवं मध्यम उद्योगो के लिए विशेष प्रावधान किये जाने चाहिए थे, उम्मीदों के विपरीत Service Tax कम किये जाने की आशा थी, उसे बढ़ा दिया गया है।

 साथ ही बजट में कुछ अच्छे प्रावधान भी किये गये है जैसे नये उद्यमियों को प्रोत्साहन, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को विशेष लाभ PF एवं ESIC में लचिलापन, प्रधानमंत्री मूद्रा योजना के अन्तर्गत सूक्ष्म उद्योगो के लिए ऋण की उपलब्धता, नए उद्योग की स्थापना हेतु 14 विभिन्न आवेदनो को एक मूश्त जमा कर उद्योग प्रारम्भ करना आदि।

 झारखण्ड के परिपेक्ष में ISM Dhanbad को IIT का दर्जा दिया जा रहा है जो सराहणीय है। केन्द्र सरकार ने 4000 मेगावाट के 5 नये विद्युत परियोजनाओं की घोषणा की है। चुँकि झारखण्ड में कोयले की उपलब्धता सर्वाधिक है, इसलिए कम से कम दो परियोजनाए झारखण्ड में लगाई जानी चाहिए। झारखण्ड में गरीबी काफी अधिक है और यहाॅ पर विकास की संम्भावनाए काफी अधिक है एवं माननीय प्रधानमंत्री जी ने चुनाव के दौरान घोषणा की थी कि झारखण्ड पर उनका विशेष ध्यान रहेगा। मगर बजट से प्रतित होता है कि शायद माननीय प्रधानमंत्री जी को अपना वादा याद नही रहा।

पिछले वर्ष भी कुछ प्रावधान ऐसे किये गये थे जिनका क्रियान्वयन नीति के अभाव में नही किया गया। अतः सरकार को यह ध्यान देना चाहिए कि उनके द्वारा इस वर्ष किये गये अच्छी घोषनाए हकीकत में लोगो तक पहूॅचंे।

Leave a Reply