Lens Eye - News Portal - शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]
Latest News Top News

शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]

Lens Eye - News Portal - शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]   नई दिल्ली 19 अक्टूबर, 2014 :: आाचार्य श्री तुलसी जन्मशताब्दी समारोह सप्ताह के चतुर्थ चरण का उद्घाटन अणुव्रत अनुशास्ता आचार्य श्री महाश्रमण जी के सान्निध्य में अध्यात्म साधना केन्द्र, छत्तरपुर में आयोजित हुआ जिसमें मुख्य अतिथि भारत सरकार की जल संसाधन मंत्री सुश्री उमाभारती , विशेश अतिथि सांसद सुखेन्दु शेखर राय एवं गीतकार शंकर सुमन उपस्थित थे। आचार्य श्री महाश्रमण जी के नमस्कार महामंत्रोंचार द्वारा कार्यक्रम का शुभारम्भ हुआ। महावीर मुनि ने मंगलचरण किया ,ज्ञानशाला दिल्ली का नाटक एवं साध्वी वृृंद की सामूहिक संगीत मय प्रस्तुति हुई।Lens Eye - News Portal - शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]विश्व शान्ति व अणुव्रत विशयक संगोश्ठी को संबोधित करते हुए आचार्य श्री ने कहा कि अणुव्रत शान्ति की बात करता है। युद्ध का उद्गम स्थल आदमी का दिमाग होता है। वहीं से हिंसा, अशान्ति व अपराध की शुरुआत होती है। हम प्रेक्षाध्यान व योग से मस्तिश्क को शान्ति का तनाव मुक्ति का प्रक्षिक्षण दे। हमारी वृतिया शांत हो। दुनिया में युद्ध हो ही नहीं ऐसा एक समझोता सम्पूर्ण विश्व  में हो जाये। एक विश्व स्तरीय न्यायालय बने जहां भूमि विवाद, जल विवाद, आकाश विवाद जैसी समस्याओं का समाधान हो। अणुव्रत शान्ति स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाये। पड़ोसी देश सीमाओं पर अशान्ति के बजाय प्रेम भाई-चारा रखे। भारत और पाकिस्तान राम लक्शमण की तरह भाई-भाई बन कर रहें। विश्व के सभी देश अमन चैन के लिए अणुअस्त्रों की तिलाजली दी और अणुव्रतों का अपनाएं।Lens Eye - News Portal - शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]आचर्य तुलसी जन्मशताब्दी वर्श के संयोजक कमलजी दूगड़ ने स्वागत भाषण दिया। आचार्य महाश्रमण प्रवास व्यवस्था समिति के अध्यक्श एवं आचार्य तुलसी जन्मशताब्दी वर्ष के आयोजन संयोजक कन्हैयालाल जैन पटावरी ने दिल्ली समेत समग्र देश वासियों को आचार्य श्री के सभी कार्यक्रमों में सम्मिलित होने का आह््वान किया। कार्यक्रम का कुशल संचालन मुनि श्री कुमार श्रमण जी ने किया। अगन्तुक अतिथियों का सम्मान कमल दूगड़, विमल नाहटा, तुलसी दूगड़ एवं कन्हैयालाल जी जैन पटावरी ने किया।

शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]

Lens Eye - News Portal - शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]माननीय जल संसाधन मंत्री सुश्री उमाभारती ने कहा कि आज के तनाव भरे हिंसा के माहौल में ठण्डी हवा का झोंका है आचार्य श्री महाश्रमण। इनके मार्गदर्शन से हम अपना जीवन शान्त व सुखी बनाए। आचार्य तुलसी के दर्शन से ही मुझे समझ में आया कि जैन होने का अर्थ है जितेन्द्रिय होना अर्थात हमारा स्वपर नियंत्रण। मैं आज ऋशिकेश जाने वाली थी सौभाग्य मेरा यहां का प्रोग्राम बन गया यहां आ के मुझे लगा कि हिमालय की शीतलता तो आचार्य श्री महाश्रमण के पास ही है। यहां से पूरे विश्व को शान्ति मिल सकती है। माननीय उमा भारती ने आचार्य तुलसी की स्मारिका एवं सचित्र मीनाकारी युक्त काइन का लोकर्पण भी किया।Lens Eye - News Portal - शीतल हवा का खुशगवार झोंका है, आचार्य श्री महाश्रमण : सुश्री उमा भारती [जल संसाधन मंत्री ]

प्रस्तुति: डाॅ. कुसुम लूणिया (मंत्री)

Share

Leave a Reply