फिल्म समिति में पॉलिटिक्स नहीं आने दें, क्योंकि पॉलिटिक्स जैसे ही आयेगी काम प्रभावित होगा : अनुपम खेर

02-Anupamराँची, झारखण्ड | सितम्बर | 02, 2016 :: आज का दिन ऐतिहासिक हैए क्योंकि हम आज इतिहास बनाने की ओर कदम बढ़ा रहे है। झारखण्ड में नई फिल्म नीति बनी हैए और उस नई फिल्म नीति के आधार पर आज तकनीकी सलाहकार समिति की पहली बैठक है। आज जो हम निर्णय लेंगे और उस पर कार्य करने की दिशा में आगे बढ़ेंगे तो आनेवाले 25 सालों के बाद जब रजत जयंती मना रहे होंगे तो हम कह सकेंगे कि आज का दिन कितना ऐतिहासिक और कितना महत्वपूर्ण था। हमारी कोशिश होगी कि इस अच्छे कार्य में पालिटिक्स को नहीं आने दें, क्योंकि पालिटिक्स जैसे ही आयेगी, काम प्रभावित होगाए क्योंकि मुझे जो बुरा लगता है, मैं साफ.साफ कह देता हूं। उक्त बातें आज सूचना भवन में आयोजित झारखण्ड फिल्म तकनीकी सलाहकार समिति की प्रथम बैठक सह सम्मान समारोह में सुप्रसिद्ध फिल्म अभिनेता पद्म भूषण श्री अनुपम खेर ने कही।

                उन्होंने कहा कि हम ऐसा काम करें, जिससे एक नया आयाम स्थापित हो, ताकि यह राज्य पूरे देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक नया आयाम स्थापित करें। उन्होंने कहा कि उनके पिता क्लर्क थे, एक छोटे से कमरे में रहते थे। उन्होंने सपने देखे और उन सपनों को पूरा किया। सपने देखने चाहिए और सपने पूरे भी करने चाहिए पर इसके लिए सबका साथ और सबका विश्वास जरूरी है। श्री खेर ने कहा कि जो उन्हें रिस्पासिंबिलिटी दी गयी है, वे कोशिश करेंगे कि उन्हें पूरा करें। उम्र 90.95 की हो या 70.75 ,कोई मायने नहीं रखता, अगर आप सीखना चाहते हैं तो हर उम्र में सीखने की कला का होना जरूरी है, और मैं ये करता हूं, क्योंकि ये मेरे लिए बड़ी बात है। झारखण्ड में टैलेंट है, क्योंकि जब उन्होंने धौनी व गुंडे और गुड़िया फिल्म की शुटिंग कर रहे थे तो यहां के बहुत सारे कलाकारों के साथ काम करने का अवसर मिला। उनके तजुर्बे और कला के प्रति समर्पण ने बता दिया कि वे मुंबई के न होकर भी, मुंबई के कलाकारों से किसी भी स्थिति में कम नहीं हैं।

                मैंने यहां के अधिकारियों, सामाजिक व सांस्कृतिक कलाकारों और यहां के लोगों की सादगी देखकर अभिभूत हुआ, क्योंकि जब मैं बचपन में कहीं जाता था तो देखता था कि लोग आम तौर पर सच्चे और अच्छे होते हैए पर जैसे दृ जैसे शहरीकरण बढ़ता है, उसका छाप भी पड़ना शुरू हो जाता है, पर यहां के लोग फिलहाल उन बुराइयों से दूर है। उन्होंने कहा कि आर्थिक प्रगति जरूरी है, पर उससे भी ज्यादा जरूरी है सांस्कृतिक रूप से ज्यादा मजबूत होना। यहां काफी संभावनाएं है, उन संभावनाओँ को और मजबूत बनाना है।

                श्री खेर के कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है, हमने सूचना एवं जन.सम्पर्क विभाग के चार लोगों को सम्मान दिया हैए क्योंकि उन्होंने बेहतर कार्य किये, जो बताता है कि राज्य के उत्थान के लिए हमें क्या करना चाहिए। उन्होंने कहा कि वे कश्मीर के रहनेवाले हैए पर हिमाचल में पले.बढ़े, ये अलग बात है, पद्म भूषण मिला, पर वे आम आदमी के रूप में ही ज्यादा दिखना चाहते है। उन्होंने कहा कि उन्हें विश्वास है कि झारखण्ड जैसा राज्य जो फिलहाल पनपने की स्थिति में है, इसे और आगे बढ़ाना हम सबकी जिम्मेदारी है, इसलिए उन्होंने झारखण्ड को चूना, स्वीकार किया और हम इसे बेहतर स्थिति में आप सबके सहयोग से ले आयेंगे।

                सूचना एवं जन.सम्पर्क विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने अनुपम खेर का स्वागत करते हुए कहा कि वे किसी भी परिचय के मोहताज नहीं। वे फिल्मों और टीवी के माध्यम से हर जगह मौजूद है, इसलिए उन्हें नहीं लगता कि वे पहली बार उनसे मिल रहे हैए लगता है कि कल की ही बात हो। अनुपम खेर जी की सादगी और उनका चरित्र बहुत कुछ कह देता है। उन्होंने कहा कि बचपन में मैने उनकी फिल्म सारांश देखी थी, जो उन्हें बहुत प्रभावित किया। उन्होंने कहा कि इंसान का चरित्र ही उसकी बड़ी पूंजी है, जब आप विपरीत परिस्थितियों में रहकर भी आप बिना किसी समझौते के अपने चरित्र की मदद से आगे बढ़ते है तो आप का असली व्यक्तित्व निखर कर सामने आता है। चरित्र की परीक्षा विषम परिस्थितियों में ही होती है। अनुपम खेर बहुत बड़ी व्यस्त व्यक्ति है, पर उसके बावजूद भी झारखण्ड के लिए उन्होंने समय निकालाए ये राज्य के लिए बड़ी बात है।

आइएसओ 9001.2015 सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग को

सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग को 9001.2015 प्रमाण पत्र प्राप्त हुआ है। विपरीत परिस्थितियों में बेहतर सुधार व कार्य के कारण झारखण्ड का पहला विभाग सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग बना। झारखण्ड का पहला विभाग सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग बना है, जिसे आइएसओ 9001.2015 प्राप्त हुआ। ज्ञातव्य है कि इस वर्ष सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग ने हर क्षेत्र में बेहतरीन कार्य किये है।

सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी सम्मानित

सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के चार अधिकारी आज सम्मानित हुए। इन अधिकारियों को सुप्रसिद्ध फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने सम्मानित किया और प्रशस्ति पत्र प्रदान किये। जिसमें श्रावणी मेले में उत्कृष्ट कार्य के लिए दुमका के सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग संथाल परगना प्रमंडल के उप दृ निदेशक अजय नाथ झा, श्रावणी मेले में ही उत्कृष्ट कार्य के लिए देवघर के जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी बिंदेश्वरी कुमार झा, बेटियों के सम्मान बढ़ाने में विशेष योगदान के लिए जमशेदपुर के जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी संजय कुमार पांडेय और जन.जन तक राज्य व केन्द्र की जनोपयोगी योजनाओं को ले जाने के लिए सरायकेला.खरसावां के जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी राहुल कुमार भारती को सम्मानित किया गया।

 

Leave a Reply