Jharkhand Global Investor Conference ka aayojan 15-16 February 2017 ko Ranchi mein : Raghuvar Das [ CM, Jharkhand ]
Latest News Politics Top News

 ‘झारखण्ड ग्लोबल इन्वेस्टर सम्मेलन’ का आयोजन 15-16 फरवरी 2017 को रांची में : रघुवर दास [मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]

 ‘झारखण्ड ग्लोबल इन्वेस्टर सम्मेलन’ का आयोजन 15-16 फरवरी 2017 को रांची में : रघुवर दास [मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]हैदराबाद । जुलाई । 20, 2016 :: हैदराबाद में आयोजित रोड शो में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने निवेशकांे को आश्वस्त कराया कि राज्य में निवेश करने हेतु उन्हें बेहतर औधोगिक वातारण मिलेगा। उन्होंने निवेशकों को राज्य में निवेश करने हेतु आमंतित्र किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार निवेशकों को सुरक्षा एवं संरक्षण देने हेतु प्रतिबद्ध है। झारखण्ड अपनी प्रतिबद्धताओं को अंक में नहीं दर्शाता बल्कि कार्य के द्वारा विकास के नये आयाम गढ़ता है। उन्होंने कहा कि जहां अन्य राज्य आकड़ों की बात करते हैं, वहीं झारखण्ड योजनाओं को धरातल में उतारने पर विश्वास रखता है।

 रोड शो में मुख्यमंत्री श्री दास ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘मेक इन इण्डिया  एवं झारखण्ड में निवेश को बढ़ावा देने के लिये 15-16 फरवरी 2017 को रांची में ‘झारखण्ड ग्लोबल इन्वेस्टर सम्मेलन’ का आयोजन किया जायेगा। जिसका मुख्य उद्देश्य झारखण्ड को विकास के स्थायी एवं न्यायसंगत साधनों के माध्यम से घरेलू एवं विदेषी निवेष के गंतव्य के रूप में स्थापित करना साथ ही राज्य के लोगों के लिए आजीविका के अवसरों में बढ़ोतरी करना तथा निवेष के भावी अवसरों के लिए एक मंच उपलब्ध कराना है।

 हैदराबाद में आयोजित इस रोड शो में झारखण्ड सरकार ने राज्य के विविध आर्थिक परिवेष में निवेष के अवसरों के लिए मार्ग प्रषस्त किया। जिसमें ओरेकल एकेडमी के माध्यम से IT–ITeS कौशल प्रषिक्षण प्रदान करने के लिए ओरेकल के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुआ। इसके साथ ही श्री सीमेन्ट के साथ भी एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुआ जो सीमेन्ट ग्राइन्डिंग युनिट में 600 करोड़ रु के निवेष को आकर्षित करेगा।

इस मौके पर ओरेकल इण्डिया के चेयरमैन एवं प्रबन्ध निदेशक शैलेन्द्र कुमार ने सनराईस सेक्टर पर मुख्यमंत्री रघुवर दास के दृष्टिकोण की सराहना करते हुए कहा, ‘‘हमें मुख्यमंत्री की क्षमता पर पूरा भरोसा है और एक साथ मिलकर हम एक ऐसे राज्य का निर्माण करने जा रहें हैं जिसके नागरिक पूरी तरह से सषक्त होंगे और जिनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार किया जाएगा।’’ श्री सीमेन्ट के प्रबन्ध निदेषक एच. एस. बंागर ने भारतीय एवं विदेषी निवेषकों तक पहुंच बनाने के प्रयासों के लिए मुख्यमंत्री को बधाई दी। उन्होंने भरोसा जताया कि श्री सीमेन्ट झारखण्ड की प्रगति में योगदान देगा। समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के बाद उन्होंने राज्य के साथ अपने अनुभवों पर प्रकाष डाला तथा निवेष हेतु Ease of Doing Bussiness model की सराहना की।

रोड शो में झारखण्ड सरकार के अधिकारियों ने विस्तृत प्रेज़ेन्टेशन्स के माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों जैसे उर्जा, स्वास्थ्यसेवा, शहरीकरण, षिक्षा एवं कौषल विकास में निवेष के लिए सरकार की प्राथमिकताओं एवं तैयारियों पर प्रकाश डाला।

झारखण्ड की मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में विकास के मार्ग पर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि सरकार उद्योगों को बढ़ावा देने हेतु उद्यमियों को सभी सुविधायें मुहैया करायेगी।

इस अवसर पर उर्जा विभाग के अपर मुख्य सचिव आर0के0 श्रीवास्तव ने झारखण्ड में उर्जा के क्षेत्र में किये जा रहे विकास कार्यों पर प्रकाश डालते हुये कहा कि झारखण्ड में संसाधानों की पर्याप्त उपलब्धता और उर्जा क्षेत्र में लगातार सुधार कार्यों के मद्देनज़र सरकार को पूरा विष्वास है कि राज्य को 2019 तक देष के एनर्जी हब के रूप में स्थापित किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि 2018 तक 12.3 GW अतिरिक्त क्षमता के इन्सटाॅलेशन का अनुमान है, जिसमें झारखण्ड सरकार 11 GW के लिए उत्तरदायी होगी। नव्यकरणी क्षेत्र की बात करें तो झारखण्ड राज्य उर्जा नीति 2015 के तहत 2019 तक 2.6 GW अतिरिक्त उर्जा क्षमता को इन्सटाॅल करेगा।

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव के0 विद्यासागर ने झारखण्ड में स्वास्थ्य के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला । उन्होंने कहा कि जहां एक ओर झारखण्ड के प्राथमिक स्वास्थ्य सूचकांकों में पिछले सालों के दौरान लगातार सुधार हुआ है, वहीं राज्य सुनियोजित तरीके से पीपीपी माॅडल के तहत सुपर स्पेषिलिटी अस्पतालों, मेडिकल काॅलेजों, खाद्य एवं दवा जांच प्रयोगषालाओं, नर्सिंग काॅलेजों, पेरामेडिकल संस्थानों एवं अन्य स्वास्थ्य सेवाओं की स्थापना हेतू तत्पर है।

इस मौके पर उच्च एवं तकनीकी षिक्षा के सचिव अजय कुमार सिंह ने कहा, ‘‘झारखण्ड राज्य की आबादी 33 मिलियन है जिसमें से 40 फीसदी लोग 14 वर्ष से कम आयु वर्ग के हैं, 70 फीसदी से अधिक लोग 35 वर्ष से कम आयु वर्ग के हैं। प्रतिष्ठित शैक्षणिक एवं अनुसंधान संस्थानों के नेटवर्क तथा जनसांख्यिकी सम्भावनाओं के साथ, झारखण्ड का सामाजिक-आर्थिक भविष्य उज्जवल प्रतीत होता है। हम संस्थागत विकास एवं क्षमता निर्माण में निवेश के द्वारा अपनी अपने आप को सशक्त बनाना चाहते हैं, जिसकी मांग बहुत अधिक है।’’

जमषेदपुर युटिलिटीज़ एण्ड सर्विसेज़ कम्पनी [ JUSCO ] के चेयरमैन सुनील भास्करन ने राजधानी रांची के लिए स्मार्ट सिटी दृष्टिकोण पर ज़ोर देते हुए कहा अगर स्मार्ट सिटी की बात की जाए तो झारखण्ड इस दृष्टि से सबसे आगे है। राज्य में बुनियादी संरचनाओं, अचल सम्पत्ति, स्वास्थ्य, षिक्षा, आवास एवं आतिथ्य क्षेत्रों में पर्याप्त अवसर मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि झारखण्ड में अन्य सुविधाएं जैसे पानी एवं बिजली की गुणवत्तापूर्ण आपूर्ति, ठोस कचरा प्रबन्धन प्रणाली, आधुनिकत्तम सीवरेज एवं ड्रेनेज प्रणाली, आईटी कनेक्टिविटी, डिजिटलीकरण एवं ई-प्रषासन आदि निवेष के लिए पर्याप्त सम्भावनाएं मौजुद हैं।

इस अवसर पर जानकारी दी गई कि ओरेकल ‘ट्रेन द ट्रेनर’ माॅडल के अनुसार शैक्षणिक संस्थानों की फैकल्टी को प्रषिक्षण प्रदान करेगा। ओरेकल अध्यापकों के साथ-साथ विद्यार्थियों को भी प्रषिक्षण प्रदान करने के लिए ज़रूरी सामग्री एवं साॅफ्टवेयर उपलब्ध कराएगा। वहीं दूसरी ओर झारखण्ड सरकार ओरेकल के मार्गदर्शन में संस्थानों को आवष्यक बुनियादी संरचना के विकास एवं रखरखाव के लिए सहायता प्रदान करेगी। यह साझेदारी राज्य में आईटी मानव संसाधनों की उपलब्धता को बढ़ाएगी और इस प्रकार प्रोद्यौगिकी इनेबल्ड इनोवेषन, उद्यमिता एवं ओद्यौगिक विकास को प्रोत्साहित करेगा।

रोड शो में आॅटोमोबाइल एवं आॅटो अवयव, ऊर्जा इन्फ्रास्ट्रक्चर, इलेक्ट्रोनिक्स सिस्टम डिज़ाइन एवं मैनुफैक्चरिंग ,कृषि, एवं खाद्य प्रसंस्करण, वन एवं पर्यावरण, स्वास्थ्यसेवा एवं चिकित्सा षिक्षा, ओद्यौगिक इन्फ्रास्ट्रक्चर, खान एवं खनिज, षिक्षा एवं कौषल विकास, स्मार्ट सिटी-राँची ,टेक्सटाईल तथा पर्यटन के क्षेत्र में विकास पर जारे दिया गया।

                इस अवसर पर जानकारी दी गई कि 40 फीसदी खनिज भण्डार के साथ, झारखण्ड ‘मेक इन इण्डिया’ मिशन की रीढ़़ है। कारोबार सुधार कार्यान्वयन की दृष्टि से झारखण्ड भारतीय राज्यों में तीसरे स्थान पर है।  जीएसडीपी में 2005 से 2015 के बीच 10.5 फीसदी की वृद्धि के साथ झारखण्ड पूर्वी भारत की दूसरा सबसे तेज़ी से विकसित होती हुई अर्थव्यवस्था है। डिजिटल झारखण्ड- भारत का पहला राज्य जिसके पास राष्ट्रीय ई-प्रषासन योजना के तहत राज्य-व्यापी क्षेत्र नेटवर्क (State Wide Area Network (SWAN)    है।  कई प्रमुख संस्थान जैसे XLRI, एनआईटी जमषेदपुर, आईआईएम रांची, इण्डियन स्कूल आॅफ माईन्स, धनबाद, बीआईटी मेसरा आदि के साथ झारखण्ड भारत के सबसे लोकप्रिय मानव संसाधन केन्द्रों की सूची में है।

इस अवसर पर विकास आयुक्त अमित खरे, नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह, उद्योग सचिव सुनिल कुमार वर्णवाल सहित उद्योग जगत की कई हस्तियां उपस्थित थे।

Share

Leave a Reply