कलाकृति स्कूल ऑफ़ आर्ट्स की पांच दिवसीय चित्रकला प्रदर्शनी संपन्न

कलाकृति स्कूल ऑफ़ आर्ट्स की पांच दिवसीय चित्रकला प्रदर्शनी संपन्नरांची, झारखण्ड । जनवरी  । 29, 2017 :: कलाकृति स्कूल ऑफ़ आर्ट्स डोरंडा कन्या पाठशाला में कलाकृति आर्ट फाउंडेशन द्वारा स्कालरशिप प्राप्त छात्राओं द्वारा बनाई गयी पेंटिंग्स की पांच दिवसीय चित्रकला प्रदर्शनी का आज समापन हो गया | पांच दिनों तक चली प्रदर्शनी में सैंकड़ो स्कूली बच्चों और अभिभावकों ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया | समापन समारोह में अथिथि के रूप में कलाकृति आर्ट फाउंडेशन के अध्यक्ष  रवि शंकर गुप्ता उपस्थित थें | प्रदर्शनी में प्रदर्शित चित्रों में से 12 चित्रों का चयन कर उन्हें पुरस्कृत किया जायेगा एवं केलिन्डर का स्वरूप दिया जायेगा | प्रदर्शनी में सर्वश्रेस्ट प्रदर्शन करने के लिए तन्वी कुमारी एवं मनस्वी तिग्गा को प्रशस्ति पत्र एवं मोमेंटो दे कर सम्म्मानित किया गया | इस पांच दिवसीय चित्रकला प्रदर्शनी में कलाकृति द्वारा निशुल्क प्रशिक्षण प्राप्त छात्राओं द्वारा बनाई गयी 80 चित्रों को प्रदर्शित किया गया था | ये सभी छात्राएं निम्न आय एवं पिछड़ा वर्ग से आते है| आर्थिक अभाव के कारण इनकी प्रतिभा को मंच नहीं मिल पा रहा था | जिसे कलाकृति स्कूल ऑफ़ आर्ट्स के निदेशक एवं कला शिक्षक धनंजय कुमार ने पहचान दिलाने की जिम्मेदारी ली | इसी उद्देश्य से संस्था हर वर्ष पेंट योर फ्यूचर स्कॉलरशिप कार्यक्रम के तहत 31 निर्धन प्रतिभावान छात्राओं का चयन कर उन्हें निशुल्क प्रशिक्षण देकर उनके प्रतिभा को निखारने का काम कर रही है | कलाकृति द्वारा विगत 15 वर्षों से सैंकड़ो निर्धन और पिछड़ा वर्ग के छात्राओं को निशुल्क चित्रकला की शिक्षा प्रदान कर रही है | यहाँ से निशुल्क शिक्षा प्राप्त कर छात्राएं कला के क्षेत्र में अपना उज्जवल भविष्य बखूबी संवर रही हैं | इस प्रदर्शनी में कक्षा 8 से 10 के छात्राओं द्वरा एक वर्ष के प्रशिक्षण के दौरान बनाई गयी 80 चित्रों को प्रदर्शित किया गया है| प्रदर्शनी में बच्चों द्वारा विभिन्न माध्यमों और विषयों पर बनायीं गयी चित्रों को प्रदर्शित किया गया है जैसे, प्राकृतिक दृश, काल्पनिक दृश्य, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ो, कृष्णा, जीव जंतु, पक्षी आदि का चित्रण किया गया है |

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में विद्यालय की छात्राओं का बहोत योगदान रहा जिसमे रजनी, विक्की ,आरती, तन्वी , कोमल, अंजलि, मनीषा आदि का सहयोग रहा|

Leave a Reply