वर्ष 2019 तक झारखण्ड को एक विकसित राज्य बनाने के सपने को साकार करना है : रघुवर दास [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]
Latest News Politics Top News

वर्ष 2019 तक झारखण्ड को एक विकसित राज्य बनाने के सपने को साकार करना है : रघुवर दास [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]

वर्ष 2019 तक झारखण्ड को एक विकसित राज्य बनाने के सपने को साकार करना है : रघुवर दास [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]राँची, झारखण्ड | जुलाई | 23, 2016 :: झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर  दास ने कहा कि किसी भी राज्य या देश  के विकास में जनभागीदारी जरूरी है। राज्य को विकसित बनाने के लिये सिर्फ सरकार ही नहीं बल्कि आमजनों को भी अपनी जवाबदेही सुनिष्चित करनी होगी। वे आज होटल रेडिशन ब्लू में इंडिया टुडे गु्रप की ओर से आयोजित द स्टेट आॅफ द स्टेट काॅन्क्लेव कार्यक्रम में बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत गांवों का देश  है लेकिन गांव में शहर की अपेक्षा सुविधाओं की कमी है, शहर के साथ साथ गांवों का भी समान रूप से विकास हो, इसलिये सरकार उद्योग, आईटी और पर्यटन के साथ कृषि पर भी फोकस कर रही है।  योजना बनाओ अभियान के तहत जितनी भी योजनाएं ग्रामीणों की ओर से सरकार को भेजी गई उन सभी योजनाओं पर सरकार तीव्र गति से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य के विकास में सभी राजनीतिक दलों, समाज के सभी वर्ग के लोगों का साथ मिल रहा है, यहां तक विपक्षी दल के नेता भी राज्य के विकास में अपनी भूमिका बहुत ही सकारात्मक तरीके से निभा रहे हैं। श्री दास ने बताया कि अब तक जल संचयन की दिशा में सरकार ने 1.67 लाख डोभा, 1000 तालाब का निर्माण किया है तथा आने वाले दिनों में चार लाख डोभाओं तथा 50 हजार तालाब के निर्माण का लक्ष्य रखा गया है। सरकार की मंशा है कि किसानों को बहुफसल हेतु प्रोत्साहित किया जाये। अगर राज्य में जल संचय का कार्य पूर्ण हो जाता है तो निष्चित तौर पर लोगों को पलायन नहीं करना पड़ेगा तथा कृश क कृषि के क्षेत्र में खुद को समृद्ध बना सकेंगे।

श्री दास ने कहा कि कृषि के तीनों आयाम खेती, बागवानी और पशुपालन को बढ़ावा दिया जा रहा है । सरकार ने दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में राज्य को आत्मनिर्भर बनाने के लिये प्रत्येक परिवार को 90 प्रतिश त सब्सिडी पर दो-दो गाय देने की योजना का आरंभ किया है। दुग्ध संचय हेतु एक लाख लीटर दुग्ध क्षमता का संयत्र लगाने का काम निर्धारित समय में पूर्ण किया गया है साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य में औद्योगिक विकास हो इसके लिये 2017 में ग्लोबल समिट करने जा रहे हैं तथा तीन प्रमुख शहर, मुम्बई, बैंगलोर एवं हैदराबाद में पूंजी निवेश  को लेकर सरकार की ओर से रोड शो का आयोजन व उद्यमियों के साथ बैठक की जा चुकी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड भी आईटी और मेडिकल के क्षेत्र में हब बन सकता है तथा इस संबंध में इंफोसिस के नारायणमूर्ति के साथ बात भी हुई है और सकारात्मक दिशा में कदम बढ़ाने का उन्होंने भरोसा दिलाया है। श्री दास ने उपस्थित गणमान्यों को संबोधित करते हुए कहा कि छोटी छोटी कंपनियां बनायें तथा इसके लिये सरकार ने स्टार्ट अप की शुरूआत की है तथा इसके लिये विषेश  फंड का भी प्रावधान किया गया है।

उन्होंने कहा कि 2019 तक राज्य को एक विकसित राज्य बनाने के सपने को साकार करना है और इसी सपने को साकार करने के लिये सभी विभागों के पदाधिकारी टीम वर्क के रूप में काम कर रहे हैं, अवकाश  के दिनों में भी पदाधिकारी महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में सांस्कृतिक टूरिज्म का विकास किया जा रहा है, पारसनाथ, देवघर, इटखोरी, अंजनीधाम को विकसित किया जा रहा है। पारसनाथ में हेलिपैड बन रहा है जल्द ही रांची से हेलिकाॅप्टर से यात्रा प्रारंभ किया जायेगा तथा देवघर को तिरूपति बालाजी की तर्ज पर अगले दो सालों में विकसित करने की योजना है। उन्होंने कहा कि राज्य का विकास संवाद से हो सकता है, वाद विवाद से नहीं।

द स्टेट आॅफ द स्टेट काॅन्क्लेव कार्यक्रम में 6 जिलों को विभिन्न क्षेत्रों यथा विधि व्यवसथा, षिक्षा, स्वास्थ्य इत्यादि में बेहतर कार्य करने के लिये सम्मानित भी किया गया।

बैठक में मुख्य रूप से सांसद मनोज तिवारी, विधायक अनंत कुमार ओझा, विधायक सुखदेव भगत, फिल्म मेकर प्रकाश  झा, इंडिया टुडे ग्रुप के एडिटोरियल निदेश क राज चेंगप्पा सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

 

 

Share

Leave a Reply