पोषण सुरक्षा हेतु सामाजिक पहल

पोषण सुरक्षा हेतु सामाजिक पहलरांची, झारखण्ड 26 फरवरी 2015 :: विकास भारती बिशुनपुर, सेव दि चिल्ड्रेन एवं राँची महिला महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में ‘पोषण सुरक्षा हेतु सामाजिक पहल’ विषयक कार्यक्रम राँची महिला महाविद्यालय के विज्ञान संकाय के सभागार में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन किशोरियों को लक्षित करके किया गया था ताकि राज्य की अधिक-से-अधिक किशोरियों की इसमें सहभागिता हो सके, साथ-ही प्रत्येक जिला से पोषण सुरक्षा हेतु पोषण दूत के रूप में एक-एक किशोरी को चिह्नित किया गया जो अपने क्षेत्र के गांवों में जाकर पोषण के बारे में किशोरियों एवं महिलाओं को जागरूक करेंगी। कार्यक्रम में राँची महिला महाविद्यालय, डोरण्डा काॅलेज तथा मारवाड़ी महिला महाविद्यालय की छात्राओं के अलावे राँची नगर की महिलाओं ने भी भाग लिया।

            इस सामाजिक पहल में डाॅ॰ लुईस मरांडी, मंत्री, समाज कल्याण, महिला एवं बाल विकास विभाग, डाॅ॰ नीरा यादव, मंत्री, मानव संसाधन विकास विभाग एवं श्री राजपलिवार, मंत्री, श्रम नियोजन एवं प्रशिक्षण विभाग, झारखंड सरकार तथा विधायक, शिवशंकर उरांव, गंगोत्री कुजूर, बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष श्रीमती रूपलक्ष्मी मुण्डा, राँची महिला महाविद्यालय की प्राचार्या मंजू सिन्हा, ‘सेव दि चिल्ड्रेन’ के न्यूट्रीशन की कंट्री हेड अर्चना चैधरी, महादेव हांसदा, ‘वादा न तोड़ो’ के ए.के. सिंह, एम.एस.एम.ई. के निदेशक महादेव लकड़ा, आई.एम.ए. के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डाॅ॰ अजय सिंह विशेष रूप से उपस्थित थे।

इस अवसर पर डोरण्डा काॅलेज, मारवाड़ी महिला महाविद्यालय, राँची महिला महाविद्यालय, वादा न तोड़ो, सेव दि चिल्ड्रेन, विकास भारती बिशुनपुर, एम.एस.एम.ई. द्वारा प्रदर्शनी लगाई गई थी जिसके माध्यम से कुपोषण दूर करने हेतु राज्य के ग्रामीण अंचलों में स्थानीय स्तर पर पाई जाने वाली खाद्य सामग्रियां यथा- मड़ुआ, मकई एवं विभिन्न प्रकार के साग से मिलने वाले पौष्टिक तत्वों के बारे में जानकारी प्रदान की गई। काॅलेज की छात्राओं ने पावर प्वाईंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से पोषण से संबंधित जानकारियां प्रतिभागियों के बीच दी तथा छात्राओं द्वारा पोषण से संबंधित नुक्कड़ नाटक का भी मंचन किया गया।

कार्यक्रम में राँची महिला महाविद्यालय की प्राचार्या मंजू सिन्हा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम में सभी जिलों के प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं जो अपने गांव में जाकर पोषण संबंधी जानकारी लोगों को देंगी जिससे लोग स्वस्थ और सुरक्षित होंगे। न्यूट्रीशन की कंट्री हेड अर्चना चैधरी ने कहा कि पोषण संबंधी जानकारी नहीं होने के कारण लोगों में अधिक बिमारियां होती हैं। इसलिए जरूरी है कि लोगों को इसके प्रति जागरूक किया जाए। गांव में उपलब्ध खाद्य पदार्थों से ही पोषण प्राप्त किया जा सकता है, जरूरत है जानकारी की।पोषण सुरक्षा हेतु सामाजिक पहलविकास भारती बिशुनपुर के सचिव अशोक भगत ने अपने सम्बोधन में कहा कि हमने राज्य को कुपोषण मुक्त बनाने का संकल्प लिया है। एक राज्यव्यापी अभियान चलाकर लोगों को स्थानीय स्तर पर मिलने वाले पोषक खाद्य पदार्थों के विषय में जागरूक करने का काम किया जाएगा और उस दिशा में आज का यह कार्यक्रम एक शुरूआत है। समस्याओं के समाधान के लिए हमें केवल सरकार के भरोसे निर्भर नहीं रहना है बल्कि समाज के लोगों को मिलकर इनका निदान ढूँढना होगा।पोषण सुरक्षा हेतु सामाजिक पहलडाॅ॰ लुईस मरांडी ने कहा कि सरकार कुपोषण दूर करने के लिए तमाम योजनाएं क्रियान्वित कर रही है यथा- आँगनवाड़ी केन्द्रों तथा विद्यालयों में मध्याह्न भोजन योजना। लेकिन कुपोषण जैसी गंभीर समस्या से निपटने के लिए केवल सरकारी प्रयास ही पर्याप्त नहीं होंगे, इसके लिए समाज को आगे आना होगा। हम सभी को मिलकर राज्य को कुपोषण मुक्त बनाना होगा। विकास भारती, सेव दि चिलड्रेन व राँची महिला महाविद्यालय के संयुक्त प्रयास से आयोजित यह कार्यक्रम सामाजिक पहल की शुरूआत है। इस तरह के प्रयास राज्य के अन्य जिलों में भी किये जाने चाहिए।

डाॅ॰ नीरा यादव ने अपने सम्बोधन में कहा कि स्वस्थ किशोरियां ही स्वस्थ मां बन सकती हैं। इसलिए आवश्यक है कि हम उस पौधे को सींचें जो आगे जाकर फल देगा। ये कोई जरूरी नहीं है कि केवल महंगे खाद्य पदार्थों को खाकर ही हम स्वस्थ होंगे बल्कि गांव में, घरों में जो उपलब्ध पोषण खाद्य पदार्थ हैं उसी से किशोरियां और हम स्वस्थ रह सकते हैं। आवश्यकता है उन खाद्य पदार्थों की पौष्टिकता के विषय में जानकारी जन-जन तक पहुंचाने की। यह कार्यक्रम सामाजिक पहल की शुरूआत है, इसे एक अभियान के रूप में पूरे राज्य में संचालित कर राज्य को कुपोषण मुक्त बनाने हेतु विकास भारती जैसी सामाजिक संस्थाओं को जवाबदेही लेनी होगी क्योंकि केवल सरकारी प्रयास इस समस्या के समाधान हेतु पर्याप्त नहीं होगा।पोषण सुरक्षा हेतु सामाजिक पहलश्रम एवं नियोजन तथा प्रशिक्षण मंत्री श्री राजपलिवार ने कहा कि विकास भारती के सचिव अशोक भगत ने कुपोषण जैसी गंभीर समस्या से निबटने का जो संकल्प लिया है उसमें हम सभी इनके साथ हैं और सरकारी स्तर पर इस अभियान को सफल बनाने हेतु जो भी सहयोग आवश्यक होगा उसे देने का हर संभव प्रयास किया जाएगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता विकास भारती के सचिव अशोक भगत ने किया, मंच संचालन श्रीमती रंजना चैधरी एवं नीपा दास ने संयुक्त रूप से किया। धन्यवाद ज्ञापन मांडर विधायक गंगोत्री कुजूर ने किया।

यह जानकारी विकास भारती के मीडिया प्रभाग द्वारा दी गई।

Leave a Reply