Guest Writer

यह आलोचना नहीं पर सच्चाई है।

यह आलोचना नहीं पर सच्चाई है। हिन्दी सहित देशज पत्रकारिता अपने पाठकों को दुनिया से सही तरीके से नहीं जोड़ पा रही है। जिन मुद्दों पर आम पाठकों/दर्शकों को जानकारी होनी चाहिए, वैसे गंभीर मुद्दे हिन्दी के पटल पर नहीं आते,जिनका हिन्दी भाषी इलाकों से सीधा सम्बन्ध होता है। वर्तमान में ऎसा ही एक मुद्दा […]