Politics Top News

अकेले कृषि की दम पर नहीं बन सकता प्रदेश नम्बर एक : जयंत कुमार मलैया

दमोह, मध्यप्रदेश 10 अगस्त 2013 ::   मध्यप्रदेश खेती अकेले की दम पर देश में विकास के मामले में नम्बर एक पर नहीं पहुंच सकता। वर्तमान में गुजरात और पंजाब जिनकी गिनती अग्रणी राज्यों  में होती है उनको पीछे छोडने के लिये अन्य विकल्पों की ओर भी ध्यान देना होगा। यह बात स्थानीय विधायक एवं प्रदेश के जल संसाधन, पर्यावरण मंत्री जयंत कुमार मलैया ने कही। मानस भवन में आयोजित  जिला स्तरीय गोपाल पुरस्कार  योजना के तहत आयोजित एक भव्य समारोह के दौरान उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुये इन्होने कहा कि पशुपालन सहित अन्य मामलों में भी हमें स्वालंबी बनना पडेगा।

इन्होने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा गोपाल योजना संचालित की गई है। इससे भारतीय उन्नत नस्ल के गौवंशीय पशुओ के पालन को ब़ढावा देने एवं अधिक दूध उत्पादन को प्रोत्साहन के लिये सरकार ने गोपाल पुरस्कार  योजना चलाई है इसके तहत आज जिले के दस पशुपालको को विकासखण्ड स्तर से चयन कर जिला स्तर पर सम्मानित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिले में दूध उत्पादन के लिये गिर, मालवीय, हरियाणा, साहीवाल देशी नस्ल की दुधारू गाय को कृषक पाल रहे हैं जिससे अधिक दूध उत्पादन को ब़ढावा मिल रहा है।

श्री मलैया ने तेन्दूखे़डा के  हरविंदर को प्रथम पुरस्कार  50 हजार, तेन्दूखे़डा चैरई के मनीष को द्वितीय पुरस्कार  25 हजार तथा तेन्दूखे़डा के मंजीत सिंह को तृतीय पुरस्कार   15 हजार की राशि भेंट की। इसी प्रकार 7 पशु पालको में जबेरा विकासखण्ड नोहटा से श्री संतोष, परस्वाहा के धनप्रसाद, तेन्दूखे़डा विकासखण्ड की श्रीमती मुन्नीबाई जैन, दमोह विकासखण्ड पालर कुंदन पटैल, हटा विकासखण्ड अमित अग्रवाल, पथरिया विकासखण्ड  घनश्याम रैकवार,  मुन्ना यादव को 5-5 हजार रूपये के सांत्वना पुरस्कार प्रदान किये गये। वहीं उन्होंने कौशल उन्नयन प्रशिक्षण कार्यम के तहत घरेलू महिलाओ को दक्ष बनाने के तहत 34 महिलाओ को प्रमाण पत्र के साथ 2 हजार रूपये के मानदेय चेक तथा दमोह नगरीय क्षेत्र के  भूमिहीनों  व्यक्तियांे को आवासीय  भूमि के पट्टे वितरित किये।

 रिपोर्ट  :: डा.लक्ष्मीनारायण वैष्णव

Leave a Reply