Lens Eye - News Portal - रिंग रोड किसी शहर की लाइफ लाइन होती है : हेमंत सोरेन [ मुख्यमंत्री, झारखंड ]
Latest News Politics Top News

रिंग रोड किसी शहर की लाइफ लाइन होती है : हेमंत सोरेन [ मुख्यमंत्री, झारखंड ]

Lens Eye - News Portal - रिंग रोड किसी शहर की लाइफ लाइन होती है : हेमंत सोरेन [ मुख्यमंत्री, झारखंड ]राँची, झारखंड 18 फरवरी 2014 ::  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ‘झारखंड त्वरित पथ निर्माण कार्यक्रम’ के अंतर्गत निर्मित राँची रिंग रोड के सेक्शन iii,iv,v एवं vi का लोर्कापण किया। पलांडू में आयोजित इस लोकार्पण समारोह के अवसर पर सांसद सुबोधकांत सहाय एवं नगर विकास मंत्री सुरेश पासवान भी उपस्थित थे।

          समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि रिंग रोड किसी शहर का लाइफ लाइन होता है। यह राज्य का प्रथम छः लेन सड़क  है। राज्य की सभी सड़कें बढ़िया हो, यह हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि सड़क के निर्माण से रांची का विस्तार तो होगा ही, साथ ही साथ आसपास के क्षेत्रों का सामाजिक एवं आर्थिक उन्नयन भी होगा। इस रिंग रोड के अंतर्गत एक इनर रिंग रोड बनाने पर विचार किया जा रहा है। विकास के लिए हम आर्थिक संसाधन जुटाने के लिए प्रयासरत हैं। रांची शहर के सौदंर्यीकरण के लिए 18 सड़कें बननी है एवं इसके लिए 200 करोड़ रूपए की राशि स्वीकृत की गई है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार द्धारा प्रस्तावित चण्डीगढ़ से हल्दिया पोर्ट तक ‘बिजनेस कोरिडोर’ का हिस्सा बनने के लिए झारखंड सरकार द्धारा सार्थक पहल किया जा रहा है। इस पहल से झारखंड में पर्यटन का विकास होगा एवं खनिज, तसर सिल्क इत्यादि का व्यवसाय भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति के सहयोग से ही विकास संभव है। हमें ये देखना है कि विकास के लिए हमारा क्या योगदान है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकार्पण समारोह के अवसर पर गुलदस्ता की प्रथा के बदले पौधा प्रदान किया जाय।सड़क के किनारे फलदार वृक्षों के लगाने से राहगीरों को छाया तो मिलेगा हीएसाथ में फल भी मिलेगा। हम विकास के लिए सिर्फ प्रकृति से खिलवाड़ ही नहीं करें परंतु प्रकृति को भी कुछ प्रदान करें।

सांसद सुबोधकांत सहाय ने कहा कि रिंग रोड के निर्माण से रांची शहर में भारी वाहनों द्धारा होने वाली यातायात संबंधी असुविधा दूर होगी। इस सड़क का निर्माण राज्य के लिए शुभ लक्षण है। पहले राज्य का बजट 4000 करोड़ रूपए हुआ करता था एजो अब बढ़कर 37000 करोड़ हो गया है। विकास के लिए सभी को जाति एवं धर्म से उपर उठकर समन्वय के साथ काम करने की आवश्यकता है।

मंत्री सुरेश पासवान ने कहा कि गठबंधन की सरकार की शुरूआत सुनहरा है। यह सरकार राज्य को नई दिशा देने में कामयाब होगी।

पथ निर्माण विभाग की प्रधान सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने कहा कि 36.192 किमी  इस रिंग रोड की लागत 477 करोड़ है। उन्होंने कहा कि पथ निर्माण विभाग द्धारा इसके अतिरिक्त 750 किमी पथ एवं 30 पुलों का निर्माण किया गया है। मुख्यमंत्री द्धारा 1000 किमी  सड़क निर्माण एवं 50 पुलों के निर्माण की स्वीकृति भी दी गई है। सरकार द्धारा 3000 किमी  ग्रामीण पथों को भी चिह्ति किया गया है। झारखंड के विभिन्न शहरों यथा चाईबासा, लोहरदगा, गिरिडीह  इत्यादि स्थानों पर भी बाईपास का निर्माण किया जाएगा। माइन एरिया के दो बड़े पथों  के निर्माण की स्वीकृति के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है। विभिन्न कंपनियों के सी.एसण.आर(company social responsibilty) के तहत भी आवश्यक सड़को के निर्माण हेतु योजना बनाई जा रही है।

लोकार्पण समारोह में जिला परिषद् अध्यक्ष श्रीमती सुदंरी देवी, श्रीमती सीता लकड़ा, अभियंता प्रमुख पथ निर्माण विभाग रामनरेश रमण, निदेशक जे.एस.आर.डी.सी.एल  मुकुंद सप्रे, उपसचिव गोपाल जी तिवारी सहित पथ निर्माण विभाग के पदाधिकारी एवं अभियंतागण उपस्थित थे।

Source :: IPRD, Jharkhand.

Share

Leave a Reply