29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आगाज, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया उद्घाटन
Latest News Top News

29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आगाज, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किया उद्घाटन

29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आगाज, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया उद्घाटन सूरजकुण्ड, फरीदाबाद 01 फरवरी 2015 :: हरियाणा के जिला फरीदाबाद के सूरजकुण्ड में आयोजित किए जा रहे 29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आज आगाज हो गया है, जिसका उद्घाटन हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया।  इस अवसर अन्र्तराष्ट्रीय सूरजकुण्ड मेले का विधिवत् उद्घाटन करने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस मेले को देश प्रदेश की कला और संस्कृति का संगम बताया. इस बार मेले का नक्शा भी तैयार किया गया है और विदेशी आगंतुकों की जानकारी और मदद के लिए यह टिकट के साथ भी उन्हें उपलब्ध करवाया जा रहा है ताकि उन्हें किसी भी प्रकार की दिक्कत न होने पाए।29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आगाज, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया उद्घाटनमेले के नक्शे में मेले को पांच जोन में बांटा गया है जिनके नाम ऋतुओं के आधार पर हिन्दी में रखे गए हैं जैसे कि विंटर को शिशिर, जिसे जोन-एक कहा गया है, ऑटम को शरद, जिसे जोन-दो कहा गया है, वहीं, समर को ग्रीष्म के नाम से जाना गया है जिसे जोन तीन नाम दिया गया है। इसी प्रकार, स्प्रिंग को बंसत का नाम दिया गया है जिसे जोन चार के नाम से जाना जा रहा है। तो वहीं, मानसून को वर्षा का नाम दिया गया है जिसे जोन पांच के नाम से पहचान मिली है।29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आगाज, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया उद्घाटनमुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सूरजकुण्ड मेले के थीम स्टेट छत्तिसगढ़ के प्रति अपना प्यार प्रकट करते हुए कहा कि उन्हे चुनाव में कई बार बस्तर जाने का मौका मिला है। जहां के लोग बहुत ईमानदार व मेहनती है। उन्होने कहा कि किसी भी प्रदेश कला और संस्कृति वहां की पहचान होती है और इस मेले में उसी को एक साथ दर्शाने का प्रयास किया गया है। मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा कि भगवा संस्कारों की सरंचना करती है और वे यही संस्कार आने वाली पीढ़ी को देने का प्रयास कर रहे है। इस पर पूरे देश में बेवजह बवाल हो रहा है। उन्होने कहा कि कुरूक्षेत्र हरियाणा वह पावन धरती है, जहां श्रीकृष्ण ने गीता का उपदेश दिया था। उसी महानग्रंथ को वे राज्य के पाठ्यक्रम में शामिल करने जा रहे है। उन्होनेें कहा कि हिसार में एयरपोर्ट बनाया जायेगा और करनाल में एयर पट्टी को बढा किया जायेगा। करनाल में दानवीर कर्ण के नाम से ताल का निमार्ण कराकर उनकी प्रतिमा भी लगाई जायेगी और इसे विश्च के पटल पर देखने योग्य पयर्टन स्थल बनाया जायेगा। यमुनानगर जहां वेदो का जन्म हुआ था, वहां आदि बद्रीनाथ और नैना देवी के नाम पर तीर्थ स्थल का निमार्ण कराया जायेगा।29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आगाज, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया उद्घाटनमेले के नक्शे में 13 मुख्य स्थानों को दर्शाया गया है जिनमें एक नंबर कोटायामबलम गेट, दो नंबर मुक्तवाशवर गेट, तीन नंबर मेला सचिवालय, चार नंबर दानिशवारी गेट, पांच नंबर चारमिनार गेट, छः नंबर मीडिया सेंटर, सात नंबर राजस्थानी हवेली, आठ नंबर बड़ी  चैपाल, नौ नंबर सिक्किम गेट, दस नंबर महाराष्ट्र गेट, 11 नंबर गुजरात गली, 12 नंबर छत्तीसगढ़ गेट और 13 नंबर को छोटी चैपाल का नाम दिया गया है।29वें सूरजकुण्ड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आगाज, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया उद्घाटनइस बार मेले के नक्शे में टिकट काऊंटर्स, फूड कोर्ट, शौचालय, सूचना या एनाऊंसमेट, पुलिस, एटीएम और स्नैक दुकानों के चिन्ह भी दर्शाये गए है। मेले की समयसारिणी में इस बार बदलाव करते हुए इसे प्रातः 10.30 बजे से सायं 8.30 रखा गया है। मेला में आने वाले आगंतुक मेला टिकट www.haryanatourism.gov.in आनलाईन के माध्यम से ले सकते हैं और दिल्ली के चुनिंदा मैट्रो स्टेशन तथा आनलाईन साइट  बुक माई शो के माध्यम से भी प्राप्त  किए जा सकते है।

Reprt & Photographs by Naresh Narula, Faridabad.

Leave a Reply