नव वर्ष की समस्त झारखण्डवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं :: हेमंत सोरेन [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]
Latest News Politics Top News

नव वर्ष की समस्त झारखण्डवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं :: हेमंत सोरेन [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]

राँची, झारखंड 31 दिसंबर 2013 :: झारखण्ड के मुख्यमंत्री, हेमंत सोरेन ने  समस्त झारखण्डवासियों को नव वर्ष की  हार्दिक शुभकामनाएं दी .

अपने सन्देश में उन्होंने कहा ::

 नव वर्ष की समस्त झारखण्डवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं :: हेमंत सोरेन [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]2013 के अनुभवों का लाभ लेते हुए 2014 में सरकार अपने संकल्पों को पूरा करने के प्रति समर्पित है। हर व्यक्ति मुझसे पूछता है कि आपने नए साल में क्या संकल्प किया है? मेरा मानना है कि जीवन में संकल्प एक बार लिया जाता है, हर साल नहीं। मैंने भी सार्वजनिक जीवन में आने के समय ही संकल्प लिया है कि जीवन में पारदर्शिता और निर्णय में सरोकार का होना जरूरी है। हर वर्ष संकलप लेने की बजाय मैं हर साल की शुरूआत में ये आकलन करता हूं कि में अपने संकल्प के प्रति समर्पित हूँ या नहीं। मुझे खुशी है कि अब तक मैं अपने संकल्प से भटका नहीं हूँ। मैं अपने युवा साथियों और समस्त झारखण्डवासियों से अपील और अनुरोध करता हूँ, कि हर व्यक्ति को अपने जीवन के संकल्प का आकलन समय-समय पर करना चाहिए और अगर कुछ कमी रह गयी है तो उसे दूर करने का प्रयास निर्भिकता के साथ करनी चाहिए। जीवन में कुछ भी असंभव नहीं सिर्फ हौसला और खुद पर विश्वास होना चाहिए। मैंने अपने जीवन में दो लाईनों से सदैव प्रेरणा ली है।

“कौन कहता है आसमान में सुराख नहीं हो सकता,

एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो’’।

मैं मानता हूं कि आज हर युवा को इन दो लाईनों से प्रेरणा लेकर अपने लक्ष्य के प्रति कदम आगे बढ़ाना चाहिए। राज्य को आज युवाओं के सकारात्मक सोच और राज्य को आगे बढ़ाने के लिए खुद को आगे करने की आवश्यकता है। मैं शुरू से मानता हूँ कि राज्य के लोगों में क्षमता और कौशल की कमी नहीं है। कमी है तो सिर्फ खुद पर भरोसा ना कर पाने की, कहतें हैं कि जब जागे तक सबेरा। अभी भी देर नहीं हुयी है, आज भी इस राज्य को देश का अव्वल राज्य बनाना है तो हमें इस लक्ष्य को हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता। क्योंकि हमारे लोहे का पूरा देश लोहा मानता है।

       लंबे संघर्ष, बलिदान और तपस्या के बाद हमें अलग राज्य मिला है और अपने विकास की बागडोर भी मिली है। राज्य को प्रकृति ने सबकुछ दिया है। अकूट प्राकृतिक संसाधन के बावजूद अगर हम विकसित राज्यों की श्रेणी में खड़े नहीं हो पाये हैं, तो इसके लिए हम सभी दोषी हैं। हम प्रकृति और नियति को इसका दोष नहीं दे सकते। सरकार  अपने दायित्व का निर्वहण कर रही है, लेकिन समग्र विकास की परिकल्पना को धरातल पर उतारने के लिए सबको अपनी जिम्मेवारी का निर्वहण करना होगा।

       अधिकारों के साथ कत्र्तव्यों का भी एहसास होना चाहिए। मुझे उम्मीद ही नहीं पूरा भरोसा है कि हम अतीत में किए गये अपनी गलतियों को नए साल में सुधारेंगें और 2014 में झारखण्ड राज्य को नयी पहचान दिलायेंगे और इस सफलता का सहभागी झारखण्ड का जन-जन होगा। सोच सकारात्मक हो, खुद पर भरोसा हो और कोशिश ईमानदार हो तो हम सब मिलकर राज्य निर्माण की सफलता अर्जित करने के बाद राज्य को विकसित राज्य बनाने के आंदोलन में भी सफलता हासिल कर सकते हैं।

       एक बार फिर से समस्त झारखण्डवासियों को नए साल की बधाई और मंगलकामना।

(हेमंत सोरेन)

मुख्यमंत्री, झारखण्ड।

Source :: IPRD, Jharkhand.

Leave a Reply