Latest News Politics Top News

पतरातू-रामगढ़ पथ के बन जाने से इस क्षेत्र में औद्योगिक एवं कृषि उत्पादकता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा : रघुवर दास [ मुख्यमंत्री, झारखण्ड ]

27-Raghubar-Das-01रामगढ़, झारखण्ड जून 27, 2015 :: राज्य में पर्यटन एवं औद्योगिक विकास के क्षेत्र में विकास की धारा का मार्ग प्रशस्त करने के लिए अंतर्राज्यीय-अंतरजिला पथों के बीच एक मजबूत नेटवर्क स्थापित हो, इसके लिए पूरे राज्य में सड़कों के विकास के लिए सरकार कटिबद्ध है। मुख्यमंत्री ने पतरातू – रामगढ़ पथ की विशेषताओं के बारे में बताते हुए कहा कि इस फोर लेन मार्ग को बनाने में कुल 250 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। इस परियोजना के अंतर्गत तीन आरओबी, 7 पुल-पुलियों जबकि आठ बस पड़ावों का भी निर्माण कराया गया हैं, ताकि आम नागरिकों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो। ये बातें आज पतरातू – रामगढ़ पथ के लोकार्पण के क्रम में रामगढ़ आर्मी ग्राउँड में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

मुख्यमंत्री श्री दास ने कहा कि पतरातू एक खनिज बहुल क्षेत्र हैं। यह पूरा क्षेत्र ताप-विद्युत-संयत्र और कोयला खदान के लिए प्रसिद्ध है। पतरातू-रामगढ़ पथ के बन जाने से इस क्षेत्र में औद्योगिक एवं कृषि उत्पादकता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। साथ ही इस क्षेत्र के सामाजिक और आर्थिक विकास के साथ गरीबी और बेरोजगारी उन्मूलन में भी यह पथ सहायक होगा। उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि इस फोर लेन पथ के बन जाने से अब पतरातु, भुरकुंडा, बरकाकाना और रामगढ़ के निवासियों को बहुत बड़ा फायदा होने जा रहा है, और वे अपने जीवन-स्तर को बेहतर बनाने में इसका लाभ उठायेंगे।

श्री दास ने कहा कि रामगढ़ में सुप्रसिद्ध सिद्धपीठ मां छिन्नमस्तिका का मंदिर है। यहां देश-विदेश से श्रद्धालुओं के आने का तांता लगा रहता हैं, इसलिए रामगढ़ के विकास के लिए सरकार 150 करोड़ की योजनाएं स्वीकृत करने जा रही हैं। जिससे पेटरवार से रजरप्पा, कुज्जू से रजरप्पा, गोला से रजरप्पा पथ पर भैरवी नदी पर पुल और चरही से घाटो पथ का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि जल्द ही औद्योगिक विकास के लिए 450 करोड़ की राशि से हजारीबाग-बड़कागांव-टंडवा-रायखेलारी-टांगर पथ का भी निर्माण किया जायेगा।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जनता को बताया कि उनकी सरकार पूरे प्रदेश में सड़कों को बेहतर बनाने के लिए कुछ ठोस प्रयास किये है। इसके लिए झारखंड त्वरित पथ विकास कंपनी लिमिटेड का गठन किया गया हैं। यहीं नहीं लोक निजी भागीदारी एवं एशियन विकास बैंक के सहयोग से भी पथों के विकास पर ध्यान दिया जा रहा हैं, जल्द ही इंडस्ट्रियल कॉरिडोर गोल्डेन ट्रायंगल के रुप में जमशेदपुर-रांची धनबाद के लिए एक्सप्रेस वे का भी निर्माण कराया जायेगा।

पथ निर्माण विभाग की सचिव राजबाला वर्मा ने सड़क की गुणवत्ता और इसके फायदे पर विस्तृत रुप से प्रकाश डाला।

राज्य में जन-जन तक विद्युत सुलभ हो, इसके लिए राज्य सरकार पूरे झारखंड में बिजली संकट को समाप्त करने की दिशा में कदम बढ़ा चुकी है। सरकार ने टीवीएनएल में एक नया प्लांट बनाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है। हाल ही में पतरातू ताप विद्युत संयंत्र को संचालित करने के लिए झारखंड सरकार और एनटीपीसी के बीच समझौते हुए हैं। ये सारी परियोजनाएं जल्द ही पूरी होगी और राज्य विद्युत आपूर्ति में न केवल आगे निकल जायेगा, बल्कि दूसरे राज्यों को भी विद्युत आपूर्ति करने में सक्षम हों। यहीं नहीं सरकार आईटी, कृषि और उद्योग पर भी विशेष ध्यान दे रही हैं, रांची को आईटी हब बनाने की योजना पर सरकार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार भ्रष्टाचारमुक्त एवं पारदर्शी सरकार है। हम भ्रष्टाचार को किसी भी हालत में बर्दाश्त करने के पक्ष में नहीं हैं। उन्होंने यह भी कहा कि इस वित्तीय वर्ष में सरकार 3000 किलोमीटर सड़क का निर्माण कराने जा रही है।

इस अवसर पर केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री श्री जयंत सिन्हा, राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री श्री चंद्र प्रकाश चैधरी और विधायक श्रीमती निर्मला देवी भी उपस्थित थी।

Leave a Reply