राज्य में पहला महिला अभियंत्रण महाविद्यालय की स्थापना रामगढ़ में होने जा रही है :: डा. नीरा यादव
Latest News Top News

राज्य में पहला महिला अभियंत्रण महाविद्यालय की स्थापना रामगढ़ में होने जा रही है :: डा. नीरा यादव

राज्य में पहला महिला अभियंत्रण महाविद्यालय की स्थापना रामगढ़ में होने जा रही है :: डा. नीरा यादवराँची, झारखण्ड । दिसम्बर । मंगलवार । 15, 2015 :: झारखंड को शिक्षा हब बनाने के लिए राज्य सरकार ने योजनाएं बना ली है, कुछ योजनाओं को पूरा कर लिया गया है, जबकि कुछ योजनाएं पूर्ण होने की स्थिति में हैं, जैसे ही यह सब पूरा हो जायेगा, राज्य की जनता को प्राथमिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा के लिए कहीं अन्यत्र जाने की आवश्यकता नहीं होगी। उक्त बातें सूचना भवन में आयोजित प्रेस कांफ्रेस में राज्य की स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग सह उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री  श्रीमती डा. नीरा यादव ने कहीं।

श्रीमती यादव के अनुसारए राज्य में संचालित 203 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की आठवीं की 8000 छात्राओं को राज्य सरकार द्वारा टैब उपलब्ध कराया जा रहा हैं। छात्राओं की मांग को देखते हुए अब इंटरमीडिएट में विज्ञान और वाणिज्य की पढ़ाई भी शुरु कर दी गयी है। यहीं नहीं इनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए जिम की भी व्यवस्था की जा रही हैं। यहीं नहीं राज्य के सभी सरकारी विद्यालयों एवं सरकारी सहायता प्राप्त विद्यालयों में विद्यालय किट उपलब्ध कराये जा रहे है, जिसमें आवश्यक शिक्षण सामग्रियां मौजूद हैं। राज्य के 29 केन्द्रों में ई-शिक्षा कार्यक्रम चलाने की भी योजना हैं, ताकि बच्चे दूर रहकर भी बेहतर शिक्षा प्राप्त कर सकें। विभाग द्वारा जन शिकायत को सुनने एवं उसके त्वरित निष्पादन के लिए टॉल फ्री नंबर 18003456542 और 18003456544 भी जारी की गयी हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि प्रारंभिक विद्यालयों में इंटर प्रशिक्षित शिक्षक के रिक्त पद पर 4552 तथा उर्दू शिक्षक के रिक्त पद पर 487 शिक्षकों की नियुक्ति कर दी गयी हैं। इंटर के लगभग 12 हजार रिक्त पदों तथा स्नातक प्रशिक्षित शिक्षक के 3963 पदों पर नियुक्ति अंतिम चरण में हैं। इसी बीच 1871 सहायक शिक्षकों की नियुक्ति 338 उत्क्रमित विद्यालयों में कर दी गयी हैंए और 18 हजार शिक्षकों की नियुक्ति हेतु नियमावली पर कैबिनेट से स्वीकृति ली जा चुकी हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि राज्य में उच्च शिक्षा का जीइआर 8.1 प्रतिशत है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह 19.4 प्रतिशत है। सरकार ने 2022 तक इसका लक्ष्य 32 प्रतिशत रखने को कहा है। इसके लिए जल्द ही 11 जिलों में जहां महिला महाविद्यालय नहीं है, महिला विद्यालय खोलने का निर्णय लिया गया है। फिलहाल व्यवस्था के तहत वैकल्पिक भवन में पठन.पाठन का कार्य यहां किया जाना है, जिन जिलों में महिला विद्यालय खुलने है, वे है – सिमडेगा, गुमला, लोहरदगा, खूंटी, कोडरमा, चतरा, रामगढ़, पाकुड़, साहेबगंज, सरायकेला.खरसावां और लातेहार। राज्य में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए लेटर आफ इंटेट निजी विश्वविद्यालयों को सौंपा गया। जिन्हें लेटर आफ इंटेट मिला है – वे है एमिटी यूनिवर्सिटी, एसेट यूनिवर्सिटी, करुण्या यूनिवर्सिटी, मेटास सेवंथडे एडवेंटिस्ट और प्रज्ञा फाउंडेशन।

उन्होंने यह भी कहा कि राज्य में तकनीकी विश्वविद्यालय खोलने की योजना है, जिसे नामकुम में खोला जायेगा। इसके लिए 81 करोड़ रुपये का डीपीआर तैयार कर तकनीकी अनुमोदन प्राप्त कर लिया गया है, अब इस पर प्रशासनिक स्वीकृति की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अभियंत्रण के क्षेत्र में राज्य के पलामू, रांची एवं कोडरमा में भी अभियंत्रण महाविद्यालय की स्थापना करेगी। श्रीमती नीरा यादव ने कहा कि राज्य में पहला महिला अभियंत्रण महाविद्यालय की स्थापना रामगढ़ में होने जा रही है, जो गर्व का विषय है।

दूसरी ओर भारत सरकार द्वारा झारखंड के 17 जिलों में राजकीय पोलिटेकनिक संस्थान खोलने की स्वीकृति मिली है, जिनमें गोला, गढ़वा, गुमला, पाकुड़ और जगन्नाथपुर में निर्माण कार्य अंतिम चरण में हैं, जबकि मधुपुर, लोहरदगा, चतरा, सिमडेगा, खूंटी, दुमका, गिरिडीह, गोड्डा, हजारीबाग और जामताड़ा में नये पोलिटेकनिक निर्माण का कार्य प्रारंभ है।

Leave a Reply