Baahubali: The Beginning :: The Story
Entertainment Latest News Top News

Baahubali: The Beginning :: The Story

BhabubaliJuly 22, 2015 :: Baahubali : The Beginning :: The Story

In the ancient Kingdom of Mahishmati in India, Sivagami (Ramya Krishnan), carrying a baby in her arms, emerges from a cave directly next to a waterfall. She is being chased by soldiers. She kills the soldiers with a sword but falls into the river nearby. Knowing that she can’t be saved, she makes the ultimate sacrifice, her own life, to save the baby. She holds her hand and the child above water, while she drowns herself. Local villagers spot the stranded child and save the infant while Sivagami dies with her finger pointing to the top of the waterfall. Sanga (Rohini) and her husband name the infant Shivudu and raise him as their own son. To prevent anyone from coming for the baby, they seal the cave with a large rock.

 Shivudu (Prabhas) grows up aspiring to climb the waterfall which irks his mother as she does not want to lose her son. He attempts again and again to climb the massive waterfall but fails. Seeing that his son isn’t going to stop climbing she asks Swamiji (Tanikella Bharani) for a solution. He tells her that she has to pour water on Shivling 116 times then only Lord Shiva will answer her prayers. When Shivudu finds out about it, he picks Shivling on his shoulders and puts it below the waterfall. After that incident, a mask falls in to the lap of Shivudu. After pressing the mask into the dirt, he creates an imprint of the person whom the mask belongs to, a beautiful girl. He tries again to climb the waterfall and seeing visions of the girl whom the mask belongs to, succeeds.

 On top of the waterfall, he discovers that the mask belongs to Avanthika (Tamannaah), a rebellious warrior whose group has indulged in a guerrilla warfare against king Bhallala Deva / Palvaalthevan (Rana Daggubati) of Mahishmati Kingdom. The group intends to rescue former queen Devasena (Anushka Shetty) who is the real mother of Shiva and she has been imprisoned by the king for the past 25 years.

 While Avanthika initially doubts Shiva’s intentions, later she falls in love with him after she finds out that he has climbed the waterfall for her. Shiva pledges to help her in her mission and sneaks into Mahishmati to rescue Devasena. Meanwhile, the king’s Royal Guard Kattappa (Sathyaraj), known for his warrior abilities, is making arrangements to erect a large statue of the King. Impressed by Katappa’s skills, a warrior (Sudeep) from a Kingdom in the Eastern region, offers his friendship to Kattappa (this scene takes place earlier). On the other hand, Kattappa and his group, attack Shiva upon the order of the King. However, Kattappa drops his weapons on realizing that Shiva is Mahendra Bahubali, the son of late king Amarendra Bahubali.

 A flashback reveals the animosity between cousins Amarendra Bahubali and Bhallala Deva / Palvaalthevan, whose father is Bijjala Deva / Pingaladevan (Nassar). They are both trained in all areas including warfare but both of them have different approach towards kingship. Amarendra Bahubali is liberal to everyone and loves his public and so the public love him but Bhallala Deva has tendency to achieve his goals with any means possible. When a war is waged by another Kingdom, they both are guided by Shivagami that whoever brings the head of the enemy Ruler will be rewarded as the New King.

 While Amarendra Baahubali uses his skill and ability to crush the enemy by motivating his troops against the stronger Army, on the other side Bhallala Deva uses all the resources of the Army, killing innocent people as well as the enemy, to win the war. In the end, when Baahubali was at the verge of killing the Enemy king, Bhallala Deva killed the Enemy King with his ranged weapon thus taking all the credit of winning the war.

 But Shivagami who is an unbiased lady announces Amarendra Baabhubali as the new king because of his nobility and leadership in the war. After the flashback, when Shiva asks Kattappa who killed his father, Kattappa reveals himself as the killer.

बाहुबली (2015) :: कहानी

 यह कहानी महिषमती नामक एक नगर से शुरू होती है, जिसकी महारानी के दो बेटे हैं अमरेंद्र बाहुबली (प्रभास) और भालाल देव (राणा दग्गुबती)। महारानी दोनों में से किसी एक को माहेष्मती का सिंघासन देना चाहती है। समय के साथ कहानी का विस्तार होता है और कहानी में एक वक्त वह भी आता है जब अमरेंद्र के बेटे शिवुडू(प्रभास) को भलाल के लोगों से युद्ध करना पड़ता है।[7] इससे पूर्व भालाल देव द्वारा प्रताड़ित अमरेन्द्र की रानी को एक घटनाक्रम में अपने बेटे को नदी में छोड़ देना पड़ता है और उसका पालन गाँव में होता है। गाँव के संगा (रोहिणी) और उसके पति मिलकर उसे बचा लेते हैं और अपने बच्चे के रूप में उसे बड़ा करते हैं।

 शिवुडू (प्रभास) झरने पर चढ़ने का इच्छुक है पर उसकी माँ इसे ऐसा करने से रोकती है क्योंकि वह अपने बेटे को खोना नहीं चाहती। वह झरने पर चढ़ाई करने के लिए बार-बार प्रयास करता है, लेकिन विफल रहता है। अपने बेटे की झरने पर चढ़ाई की इच्छा को खत्म न होता देख उसकी माँ इस सम्बन्ध में समाधान के लिए स्वामी जी के पास जाती है। वे उससे कहते है कि केवल केवल भगवान शिव ही इसका समाधान बता सकते है और उन्हें प्रकट करने के लिए उसे शिवलिंग पर 116 बार पानी डालना होगा। शिवुडू को इसके बारे में पता चल जाता है और वह अपने कंधों पर शिवलिंग उठा कर उसे झरने के नीचे रख देता है।

 उस घटना के बाद, एक मुखौटा शिवुडू की गोद में गिर जाता है। धूल में मुखौटा दबाने के बाद, वह उस पर एक खूबसूरत लड़की की आकृति बनाता है। उस लड़की की छवि को याद करते-करते वह झरना चढ़ने में सफल होता जाता है। झरने के शीर्ष पर, वह अवंतिका (तमन्ना) से मिलता है जिसका वह मुखौटा है, उसका समूह महिषमती साम्राज्य के राजा भल्लल देव / पलवाल्थवन (राणा डग्गुबति) के खिलाफ एक गुरिल्ला युद्ध में लिप्त है ।वह पिछले 25 वर्षों से राजा द्वारा कैद पूर्व रानी देवसेना (अनुष्का शेट्टी) को बचाना चाहते हैं।

 अवंतिका शुरू में शिव के इरादों पर संदेह होता है पर जब उसे वह उसके लिए झरना चढ़ गया है तब वह इसे प्यार करने लगती है। शिव उसके मिशन में उसकी मदद करने का वादा करता है और देवसेन के बचाव के लिए महिष्मति में चुपके से प्रवेश कर जाता है। इस बीच राजा के वहां उसका शाही रक्षक कट्टपा(सत्यराज) जो अपनी योद्धिक क्षमताओं के लिए जाना जाता है, राजा की एक बड़ी मूर्ति स्थापित करने की व्यवस्था कर रहा है। कट्टपा के कौशल से प्रभावित होकर, पूर्वी क्षेत्र में एक राज्य से एक योद्धा (सुदीप), कट्टपा के समक्ष दोस्ती का प्रस्ताव (इस दृश्य पहले जगह लेता है) रखता है। दूसरी ओर, कट्टपा और उनका समूह, राजा के आदेश पर शिव पर हमला करता है हालांकि, कट्टपा उस पर हमला रोक देता है जब उसे पता चलता है कि शिवा महेंद्र बाहुबली है जो स्वर्गीय राजा अमरेन्द्र बाहुबली का बेटा है। एक फ़्लैश बैक में अमरेन्द्र बाहुबली और भल्लल देव के बीच दुश्मनी का पता चलता है। वे दोनों युद्ध सहित सभी क्षेत्रों में प्रशिक्षित हैं लेकिन उन दोनों के शासन के प्रति अलग दृष्टिकोण हैं। अमरेन्द्र बाहुबली हर किसी के लिए उदार है और जनता को प्यार करता है और इसलिए जनता भी उसे प्यार करती है लेकिन भल्लल देव किसी भी संभव तरह के साथ अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की प्रवृत्ति रखता है। एक युद्ध जो किसी और राज्य द्वारा छेड़ा गया है, उसमें शिवगामी उन दोनों को निर्देशित करता है की दोनों में से जो कोई भी दुश्मन शासक के सिर को लेकर आएगा उसे नए राजा के रूप में पुरस्कृत किया जाएगा।

 अमरेन्द्र बाहुबली अपने कौशल से मजबूत सेना के खिलाफ अपने सैनिकों को प्रेरित कर दुश्मन को कुचलने के लिए उनकी क्षमता का उपयोग करता है, वहीं दूसरी तरफ भल्लल देव युद्ध जीतने के लिए, निर्दोष लोगों के साथ ही दुश्मन की हत्या कर सेना के सभी संसाधनों का उपयोग करता है। बाहुबली शत्रु राजा की हत्या करने की कगार पर था पर अंत में, भल्लल देव दूर से मारने वाले हथियार से शत्रु राजा को उससे पहले ही मार देता है।

 इस प्रकार युद्ध जीतने का सारा श्रेय स्वयं ले लेता है। लेकिन एक निष्पक्ष औरत शिवगामी युद्ध में बाहुबली के बड़प्पन और नेतृत्व के कारण अमरेन्द्र बाहुबली को नये राजा के रूप घोषित करती है। कहानी सुनते वक्त अचानक शिवुडु उसे रोक देता है और कट्टपा से उसके पिता के हत्यारे के बारे में पूछता है, उस पर कट्टपा स्वयं को उसके पिता का हत्यारा बताता है।

Share

Leave a Reply