सी.बी.एस.ई. संस्कृत सप्ताह समारोह सम्पन्न आॅक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल, राँची में चल रहे ‘संस्कृत सप्ताह समारोह’ का हर्षोल्लासपूर्वक समापन हुआ। सप्ताहान्त में चित्रकला प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता, श्लोगन लेखन प्रतियोगिता आयोजित की गई। विद्यालय के 300 छात्र-छात्राओं ने इन प्रतियोगिताओं में भाग लेकर उत्कृष्ट प्रदर्षन किए। दिनांक 01.09.15 दिन मंगलवार को इस समारोह का समापन हुआ। इस समारोह के मुख्य अतिथि मगध विष्वविद्यालय के सेवा निवृत्त व्याख्याता रमाशंकर पाण्डेय उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होंने छात्र-छात्राओं को संस्कृत विषय की महत्ता पर प्रकाश डाला। विद्यालय के प्राचार्य ए. वर्गीष ने संस्कृत शिक्षा को सर्वोपरि बताते हुए संस्कार देने वाली भाषा बताया। इस अवसर पर विद्यालय के निदेशक डाॅ. एस.बी.पी. मेहता ने कहा कि संस्कृत की शिक्षा के माध्यम से विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में जा कर ऊँचाइयों को छू सकते हैं। संस्कृत ही एक मात्र विषय है जिसे पढ़कर विद्यार्थी शतप्रतिशत अंक लाकर लक्ष्य पूरा कर सकते हैं। इस अवसर पर विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ सरस्वती वंदना एवं अन्य रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। हर्ष अनिकेत और साक्षी कृति को बारहवीं की परीक्षा में संस्कृत विषय में 100 अंक प्राप्त करने पर उन्हें पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम का संचालन संस्कृत विभागाध्यक्ष एस.सी. मंडल ने किया। इस अवसर पर संस्कृत शिक्षक बी.के. प्रजापति, रविन्द्र कुमार एवं श्रीमती प्रेमलता गुप्ता ने उपस्थित होकर पुरस्कार वितरण में सहयोग किए।
Latest News Top News

सी.बी.एस.ई. “संस्कृत सप्ताह समारोह” सम्पन्न

सी.बी.एस.ई. संस्कृत सप्ताह समारोह सम्पन्न रांची, झारखण्ड | सितम्बर | 01,  2015  ::आॅक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल, राँची में चल रहे ‘संस्कृत सप्ताह समारोह’ का हर्षोल्लासपूर्वक समापन हुआ। सप्ताहान्त में चित्रकला प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता, श्लोगन लेखन प्रतियोगिता आयोजित की गई। विद्यालय के 300 छात्र-छात्राओं ने इन प्रतियोगिताओं में भाग लेकर उत्कृष्ट प्रदर्षन किए।

            दिनांक 01.09.15 दिन मंगलवार को इस समारोह का समापन हुआ। इस समारोह के मुख्य अतिथि मगध विष्वविद्यालय के सेवा निवृत्त व्याख्याता रमाशंकर पाण्डेय उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होंने छात्र-छात्राओं को संस्कृत विषय की महत्ता पर प्रकाश डाला। विद्यालय के प्राचार्य ए. वर्गीष ने संस्कृत शिक्षा को सर्वोपरि बताते हुए संस्कार देने वाली भाषा बताया। इस अवसर पर विद्यालय के निदेशक डाॅ. एस.बी.पी. मेहता ने कहा कि संस्कृत की शिक्षा के माध्यम से विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में जा कर ऊँचाइयों को छू सकते हैं। संस्कृत ही एक मात्र विषय है जिसे पढ़कर विद्यार्थी शतप्रतिशत अंक लाकर लक्ष्य पूरा कर सकते हैं। इस अवसर पर विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ सरस्वती वंदना एवं अन्य रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। हर्ष अनिकेत और साक्षी कृति को बारहवीं की परीक्षा में संस्कृत विषय में 100 अंक प्राप्त करने पर उन्हें पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम का संचालन संस्कृत विभागाध्यक्ष एस.सी. मंडल ने किया। इस अवसर पर संस्कृत शिक्षक बी.के. प्रजापति, रविन्द्र कुमार एवं श्रीमती प्रेमलता गुप्ता ने उपस्थित होकर पुरस्कार वितरण में सहयोग किए।

 

Leave a Reply