Article / Story / Poem / Short Story

FOOT BALL

मै इक Football हूँ ,
जिसको सबने ठोकर मारा.
टीम पुरे बाईस की है,
पर तन्हाँ हूँ मै बेचारा.

जिसने मुझको जितना सताया
उसे ही गेम मैंने जिताया
जीती हुई टीम को
मैंने ही ट्राफी दिलवाया

मै कही भी भागू, सभी मेरे पीछे दौडेगे
चाहे कुछ भी हो जाये पीछा नहीं छोड़ेगे
गेम फिनिश होने तक नाता नहीं तोड़ेगे.

 

मो. मोबिन,रांची

Leave a Reply