तेजस्विनी से आर्थिक रूप से समृद्ध होंगी झारखण्ड की बेटियां :: योजना की कुल लागत 540 करोड़.
Latest News Top News

तेजस्विनी से आर्थिक रूप से समृद्ध होंगी झारखण्ड की बेटियां :: योजना की कुल लागत 540 करोड़.

Displaying IMG_3434.jpg

नई दिल्ली । फरवरी 23, 2017 ::  समाज में महिलाओं या किशोरियों की समृद्धि से ही समाज को समृद्धि मिलती है। महिलाओं की समृद्धि समाज को स्थिरिता और नई दिशाएं प्रदान करता है। जिसको ध्यान में रखते हु, झारखण्ड के माननीय मुख्यमंत्री रघुबर दास के सानिध्य में तेजस्विनी योजना प्रारम्भ की जा रही है। योजना का क्रियान्वयन झारखण्ड महिला, बाल विकास ,वं सामाजिक सुरक्षा विभाग, डिपार्टमेंट ऑफ़ इकॉनोमिक अफेयर भारत सरकार और विश्व बैंक के संयुक्त उपक्रम द्वारा किया जायेगा। जिसके आलोक में दिल्ली में तीनो संस्थाओं ने त्रिपक्षीय समझौता किया। तेजस्विनी योजना की कुल लागत 540 करोड़ होगी जिसमे झारखण्ड सरकार द्वारा 162 करोड़ का अंशदान और विश्व बैंक द्वारा 378 करोड़ का ऋण मुहैया कराया जा रहा है जो की 30 : 70 के अनुपात में किया जा रहा है। योजन का क्रियान्वयन झारखण्ड समाज कल्याण, महिला ,वं बाल विकास विभाग, द्वारा किया जायेगा। जिसका कार्यक्षेत्र 17 ज़िलों में होगा।योजना का पहला चरण 2016. 2017 रामगढ, दुमका, चतरा और खूंटी में, दूसरा चरण 2017. 2018 पलामू, देवघर, धनबाद, बोकारो और गोड्ड़ा में तथा तीसरा चरण 2018. 2019 लातेहार, कोडरमा, जामतारा, लोहरदगा, सरायकेला खरसवां, सिमडेगा, पूर्वी सिंहपुर ,वं पाकुर में क्रियान्वित किया जायेगा।

तेजस्विनी योजना का मुख्य क्रियाकलाप 14 से 24 वर्ष की किशोरियों को आर्थिक सशक्तिकरण प्रदान करने के लि, अनोपचारिक शिक्षा के माध्यम से माध्यमिक शिक्षा स्तर की शिक्षा पूर्ण कराकर आवश्यकता अनुसार अनोपचारिक शिक्षा में समावेशित करना। और 16 से 24 वर्ष की किशोरियों को अलग अलग प्रकार के रोजगार परक व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान कर उन्हें आत्म निर्भर या रोजगार योग्य बनाना है।

इस अवसर पर झारखण्ड महिला, बाल विकास और सामाजिक विभाग के प्रधान सचिव  मुखमीत सिंह भाटिया ने कहा की इस योजना से झारखंड की किशोरियों के  स्वावलंबन को नई दिशा मिलेगीध् विश्व बैंक के कंट्री हेड जुनेद अहमद के अनुसार झारखण्ड प्रदेश देश का अकेला प्रदेश है जो की इस प्रकार की योजना को क्रियान्वित करा रहा है।

योजना के समझौते के अवसर पर डिपार्टमेंट ऑफ़ इकॉनोमिक अफेयर भारत सरकार के संयुक्त सचिव  राज कुमार, डिपार्टमेंट ऑफ़ इकॉनोमिक अफेयर भारत सरकार के निदेशक भास्कर दासगुप्ता, झारखण्ड सरकार के महिला, बाल विकास ,वं सामाजिक सुरक्षा विभाग के प्रधान सचिव मुखमीत सिंह भाटिया, विश्व बैंक के कंट्री हेड जुनेद अहमद, तेजस्विनी के परियोजना निदेशक राजेश इ पात्रों और विश्व बैंक के सामाजिक सुरक्षा विशेषज्ञ और , तेजस्विनी योजना के कार्य दल के नेता प्रवेश कुमार और विश्व बैंक की सलाहकार बेलमटी जॉनको मौजूद रही।

Leave a Reply