Health Latest News Top News Woman World

बरहेट : महिलाओं के लिए आयोजित तीन दिवसीय हेल्थ हूल सम्पन 

Untitled-03रांची, झारखण्ड । जून । 30, 2016 :: आज दिनांक 30 जून 2016 को वीमेन डॉक्टर्स विंग आई. एम. ए. झारखण्ड का बरहेट में तीन दिवसीय महिलाओं के लिए आयोजित मेगा स्वास्थ्य शिविर संपन
शिविर का समापन झारखण्ड के मुख्य मंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री द्वारा बरहेट में किया गया

वीमेन डॉक्टर्स विंग आई. एम. ए. झारखण्ड की प्रेसिडेंट डॉ. भारती कश्यप ने बताया की वीमेन हेल्थ के लिए वीमेन डॉक्टर्स विंग झारखण्ड के स्वास्थ्य मंत्री माननीय रामचन्द्र चद्रवंशी के नेत्रित्व में चार आयामी अभियान चला रही है ।
1. सूचना के सभी तंत्रों का इस्तेमाल कर महिलाओं को जागरूक करना कयोंकि महिलायें स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या के शुरूआती लक्षणों को पहचान सके और जागरूक हो
2. कैंप के समय सदर अस्पताल के अंतर्गत आने बाले सभी ब्लाक की सरकारी स्त्री रोग विशेषज्ञों की प्रशिक्षित ओंको-गयोनोकोलोजिस्टके द्वारा VIA स्क्रीनिंग एवं कोल्पोस्कोपी डायग्नोस्टिक जाँच हेतु प्रशिक्षण
3. सदर अस्पतालों में सर्वाइकल कैंसर जागरूकता अभियान, VIA स्क्रीनिंग एवं कोल्पोस्कोपी टेस्ट शिविर
4. सरकार से सदर अस्पतालों की स्तिथि सुधारने के लिए वार्ता
बरहेट 30 जून :- वीमेन डॉक्टर्स विंग आई. एम. ए. एवं डिपार्टमेंट ऑफ़ हेल्थ, झारखण्ड सरकार के संयुक्त तत्वधान में सदर हॉस्पिटल बरहेट में सुबह 08:00 बजे से शाम 5 बजे तक निःशुल्क VIA स्क्रीनिंग एवं कोल्पोस्कोपी डायग्नोस्टिक जाँच शिविर का आयोजन किया गया एवं सुबह 10:00 बजे शिविर का उद्घाटन झारखण्ड के मुख्य मंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री द्वारा किया गया ।
शिविर में मरीजों का इलाज कोल्कता के जाने-माने महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. रंजीत मंडल (Gynaecological Oncology, Chittaranjan National Cancer Institute, Kolkata) की टीम एवं डॉ. भारती कश्यप के नेत्रित्व में रांची की टीम की तरफ से डॉ. रश्मि प्रसाद और डॉ. तनुश्री चक्रवोर्ती द्वारा किया गया।
वीमेन डॉक्टर्स विंग आई. एम. ए. झारखण्ड की प्रेसिडेंट डॉ. भारती कश्यप ने बताया की इस कैंप को सफल बनाने में इन लोगों का योगदान रहा :- डॉ. अरुण रॉय (C.S. साहेबगंज), डॉ. अरविन्द कुमार (प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, बरहेट) डॉ. किरण माला, डॉ. पूनम कुमारी, डॉ. सरिता टूटू, डॉ. प्रीति नयन, डॉ. पी. पी. पाण्डेय, डॉ. ए. के. झा, राजीव कुमार (DPM, साहेबगंज), चन्दन कुमार
मुख्य मंत्री ने बरहेट मे तीन दिवसीय हेल्थ हूल के आयोजन के लिए सम्मानित किया :-
डॉ. भारती कश्यप (प्रेसिडेंट, वीमेन डॉक्टर्स विंग IMA झारखण्ड),
डॉ. रंजीत मंडल (Gynaecological Oncology, Chittaranjan National Cancer Institute, Kolkata)
डॉ. तनुश्री चक्रवर्ती, डॉ. रश्मि प्रसाद, डॉ. अरुण रॉय, राजीव कुमार

इस मौके पर झारखण्ड के मुख्य मंत्री श्री रघुबर दास जी ने संथाल परगना के सुदूर क्षेत्रों में गरीब पहाड़िया जनजाति एवं आदिवासी महिलाओं के लिए स्वास्थ्य कैंप के आयोजन की सराहना की।
उन्होंने कहा राज्य के सिविल सर्जन, डॉक्टर्स, सहिया, नर्स अपने काम को को सेवा समझ कर करें ताकि उनके उस जगह से जाने के बाद भी वहाँ के लोग उन्हें याद रखें। उन्होंने कहा गर्भवती महिलाओं के खान पान पर ध्यान देने की अधिक जरुरत है इसके लिए उन्होंने पोषण सखी की सुविधा भी उपलब्ध कराई है क्योकि भविष्य का झारखण्ड इन से जन्म लेता है।

इस मौके पर झारखण्ड के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी जी ने कहा कि कई बार डॉक्टर्स इन्फेक्शन को कैंसर समझ कर बच्चेदानी निकल देते हैं। कम उम्र की महिलाओं की बच्चेदानी निकल देने से उन्हें कई प्रकार की शारीरिक समस्यायें हो जाती है। ऐसा महिला चिकित्सक जानबूझ कर नहीं करतीं बल्कि उनमें प्रषिक्षण का आभाव होता है। इस लिए स्वास्थ्य विभाग झारखंड सरकार वीमेन डक्टर्स विंग आइएमए, झारखंड के संयुक्त तत्वधान में हर जिले के सदर अस्पताल एवं सामुदिक स्वास्थ्य केन्द्रों में काम कर रही है तथा डॉक्टरो को प्रशिक्षण भी दे रही है। सभी सदर अस्पताल में कोल्पोस्कोपे भी उपलब्ध करा रहें है ताकि कैंसर को जड़ से खत्म किया जा सके। यह एक प्रीवेंटेबल कैन्सर है एवं शुरुआती दौर पर इसका पता लगने पर पूरी तरह से इलाज संभव है। भारत में प्रति वर्ष लग-भग 122844 महिलायें सर्वाइकल कैंसर से ग्रसित हो जाती हैं उनमे से लग-भाग 67000 महिलाओं की मौत सर्वाइकल कैंसर की वजह से प्रति वर्ष हो जाती है । सर्वाइकल कैंसर से बचाब के लिए 9 से 13 की उम्र में लड़कियों को एचपीवी वैक्सीन का तीन इंजेक्शन 6 महीने के अन्तराल पर दिया जाता है लेकिन यह दुर्भग्य की बात है की सर्वाइकल कैंसर की वजह से इतनी मौत होने के बाबजूद भी भारत, पाकिस्तान, बंगलादेश एवं श्रीलंका जैसे देशों में इस नेशनल वैक्सीनेशन प्रोग्राम में शामिल नहीं है जबकि 100 देशों में उनके नेशनल वैक्सीनेशन प्रोग्राम में शामिल है। मंत्री ने अगले बजट में झारखण्ड के सभी जिलों में कैन्सर जाँच केन्द्र खोले जाने की बात कही।
डॉ. भारती कश्यप ने बताया संस्थल हूल के अवसर पर आयोजित यह तीन दिवसीय हेल्थ हूल संथाल की पहारिया जनजाति एवं आदिवाशी जाती की महिलाओं के लिए संजीवनी का काम कर रहा है । आयरन फोलिक एसिड की दवाएं मुफ्त में बांटी जा रही हैं ग्रावास्य ग्रीवा के इन्फेक्शन एवं लिकोरिया के लिए kit 2 एवं Kit 6 की गोलियाँ मुफ्त बांटी जा रही है। उदेश्य है सर्वाइकल कैंसर के प्रतिशत को कम करना एवं एनीमिया की रोकथाम । क्योंकि हमारे देश में सबसे ज्यादा सर्वाइकल कैंसर से महिलाओं की मौत होती है 67000 महिलाओं की मौत सर्वाइकल कैंसर से होती है। 22844 महिलाएँ सर्वाइकल कैंसर से प्रतिवर्ष ग्रसित हो जाती है। चाइल्ड बेअरिंग ऐज की 70% महिलाएँ हमारे देश में एनीमिया से ग्रसित है। सर्वाइकल कैंसर हमारे देश में महिलाओं की कैंसर से होने वाली मृत्यु का सबसे बड़ा कारण है। क्योंकि हमारे यहाँ गरीबी की वजह से महिलाओं के शारीर में सर्वाइकल कैंसर से लड़ने के लिए प्रतिरोधात्मक शक्ति नहीं है एवं ज ननांग की साफ सफाई नहीं करती हैं। जल्दी शादी होने की वजह से ह्यूमन पेपिलोमा वायरस से एक्सपोज़र भी कम उम्र में हो जाता है। हर सदर अस्पताल एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में वाया स्क्रीनिंग एवं काल्पो स्कोपी की व्यवस्था होनी चाहिए। सर्वाइकल कैंसर की स्क्रीनिंग के लिए वाया स्क्रीनिंग पैप टेस्ट से सस्ता एवं कारगर विकल्प है। काल्पो स्कोप की सहायता से सर्विक्स के डिजीज के कन्फर्मेशन के लिए Biopsy ले सकते हैं एवं प्री कैंसर स्टेज में सर्विक्स यानि बच्चेदानी के मुँह की बर्फ की सेंक भी दे सकते हैं। इसके लिए हम जहाँ भी कैंप लगा रहे हैं साथ –साथ महिला रोग चिकित्सकों को प्रशिक्षण भी करवा रहे हैं।
वाया स्क्रीनिंग कैंप का रिपोर्ट :-
आज के कैंप में कुल 309 मरीजों की जाँच की गई । इन में से 50% यानि 154 मरीजों में ग्राभास्य ग्रीवा (सर्विक्स) में सूजन एवं इन्फेक्सन पाया गया, 2 मरीज में सर्वाइकल पोलिप, 6 मरीजों में प्री-कैंसर पाया गया तथा 5 मरीजों में सर्वाइकल कैंसर पाया गया। सभी मरीजों को आयरन फोलिक एसिड गोलियां मुफ्त बांटी गई। इन्फेक्शन से ग्रसित मरीजों को Kit 2 एवं Kit 6 की गोलियां मुफ्त बांटी गई। प्री-कैंसर के मरीजों को कोल्ड कोगुलेशन का ट्रीटमेंट किया गया।

Share

Leave a Reply