Jharkhand Mirror
Latest News Top News

राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटिल को पुस्तक ‘ऊंची उड़ान ‘ की प्रति भेंट करती राजस्थान की लेखिका डॉ. कुसुम लुनिया

Jharkhand Mirrorनई दिल्ली, 07 जुलाई 2012 :: डॉ. कुसुम लुनिया द्वारा राष्ट्रपति को कन्या भ्रूण हत्या जैसी ज्वलंत सामाजिक समस्या पर आधारित नाट्‌य पुस्तक ‘ ऊंची उड़ान’ की प्रति भेंट राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटिल को राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक सादे समारोह में जानी मानी लेखिका डॉ. श्रीमती कुसुम लुनिया ने अपनी पुस्तक ‘ऊंची उड़ान’ के नवीन संस्करण की एक प्रति भेंट की।

राष्ट्रपति श्रीमती पाटिल ने कन्या भूर्ण  हत्या जैसी ज्वंलत सामाजिक समस्या पर आधारित यह नाट्‌य पुस्तक लिखने के लिए लेखिका डॉ. कुसुम लुनिया को बधाई दी और पुस्तक के सुन्दर प्रकाशन और सुन्दरकृत्ति के लिए राजकमल प्रकाशन के निदेशक श्री अशोक माहेश्वरी को भी शुभकामनाएं और साधुवाद दिया।
पुस्तक लेखिका डॉ. लुनिया ने राष्ट्रपति को बताया कि उन्होंने यह कृत्ति आचार्य महाप्रज्ञ और आचार्य महाश्रमण जी की प्रेरणा से तैयार की है और अणुव्रत आंदोलन के सहयोग से कन्या भ्रूण हत्या की समस्या और सामाजिक बुराई से लडने और बेटी बचाओं अभियान को आगे बढाने का प्रयास किया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि यह पुस्तक संसद भवन के पुस्तकालय में भी रखी गई है। पुस्तक में कन्या भूर्ण समस्या और इस ज्वंलत सामाजिक बुराई को एक ‘फुल लेंथ हिन्दी नाटक’ के रूप में प्रस्तुत किया गया है, जो कि संभवत देश में अपने ढंग का प्रथम प्रयास है। श्रीमती लुनिया ने बताया कि इस पुस्तक पर अनेक समाजसेवी संस्थाओं और थियेटर समूहों द्वारा नाटकों का मंचन भी किया जा रहा है। पुस्तक ‘ऊंची उड़ान ‘ के अब तक तीन संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं।
इस मौके पर राजकमल प्रकाशन के निदेशक श्री अशोक माहेश्वरी, तेरापंथ विकास परिषद के चेयरमेन श्री लालचंद सिंधी, विद्याभारती स्कूल के महासचिव डॉ. धनपत लुनिया, जैन इंटरनेशनल ट्रेड आर्गेनाईजेशन के कोषाध्यक्ष श्री सुखराज सेठिया, राजस्थान सूचना केन्द्र के संयुक्त निदेशक श्री गोपेन्द्र नाथ भट्‌ट, श्री संजय खटेड़, अध्यक्ष तेरापंथ युवक परिषद और अखिल भारतीय तेरापंथ महिला मंडल, दिल्ली की अध्यक्ष श्रीमती उमा राखेचा और सी.ए. विशाल लुनिया एवं श्रीमती स्नेह छाजेड  आदि भी मौजूद थे।
लेखिका डॉ. कुसुम लुनिया की ओर से इस अवसर पर राष्ट्रपति श्रीमती पाटिल को राजस्थानी साड़ी, शाल और पुष्पगुच्छ भेंट किए गये।
………………
Photo & Report by :: Seema Thakur, Delhi.

Leave a Reply